नई दिल्ली. उत्तरप्रदेश में विपक्ष के पूरी तरह मरणासन्न होने के चलते खतरों से दूर योगी सरकार के लिए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ‘जी का जंजाल’ बन गए हैं। पूरे प्रदेश में धरना गुरु के नाम से मशहूर लल्लू ने उन कांग्रेस समर्थकों को फिर से एकजुट कर दिया है जो पिछले चालीस साल से घरों में बैठे थे लेकिन किसी दूसरे दल को समर्थन देने को तैयार नहीं थे।

हमेशा जेल जाने को तैयार

लल्लू के जलवे का अंदाजा सिर्फ इससे लगाया जा सकता है कि प्रदेश के लोग भले ही भाजपा, बसपा, सपा के प्रदेश अध्यक्ष का नाम नहीं बता पाएं लेकिन जैसे ही कांग्रेस का नाम आता है, लोग तपाक से अजय कुमार लल्लू का नाम बता देते हैं। इसके पीछे उनके जुझारू होने का जितना हाथ नहीं है, उससे अधिक हमेशा जेल जाने के लिए तैयार रहने की उनकी खूबी है। पिछले चालीस साल के प्रदेश के राजनीतिक इतिहास में वे एकमात्र ऐसे राजनीतिक नेता हैं जिन्हें एक बार में 25 दिन तक जेल में रहना पड़ा। दो से पांच दिन के लिए वे कई बार जेल जा चुके हैं।

पलट दी है कांग्रेस की मिट्टी

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि लल्लू ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस की मिट्टी पलट दी है। जिस कांग्रेस पर बंद कमरे में बैठकर राजनीति करने का ठप्पा लग चुका था, वहीं अब हर जिले में जनता से जुड़े मुद्दों को लेकर लड़ रही है। जेल और मुकदमों की प्रताडना भी उनके इरादों को डिगा नहीं पा रही है। लल्लू का राजनीतिक आकलन करने वालों का कहना है कि लल्लू ने कार्यकर्ताओं एवं नागरिकों में हक की लड़ाई लड़ने और उसके लिए जेल जाने का हौसला पैदा कर दिया है। उन्होंने कार्यकर्ताओं में सरकारी दमन का डर खत्म कर दिया।

आज हालात ये हैं कि उत्तरप्रदेश में कांग्रेस ही एकमात्र विपक्षी दल है जो प्रदेश की भाजपा सरकार के खिलाफ सड़क से लेकर सदन तक लड़ रही है। गेहूं और धान की सरकारी खरीद के मुद्दे से लेकर बिजली के स्मार्ट मीटर तक के मुद्दे कांग्रेस उठा रही है।

Leave a comment

Your email address will not be published.