नई दिल्ली. उत्तरप्रदेश में जातीय समीकरण साधने के लिए भाजपा योगी सरकार में तीसरे उपमुख्यमंत्री की नियुक्ति करेगी इसके लिए तीसरे उपमुख्यमंत्री की तलाश तेज हो गई है। माना जा रहा है कि भाजपा ने उत्तर प्रदेश में 2022 में प्रस्तावित विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। इसी के चलते उत्तर प्रदेश को एक और उप मुख्यमंत्री मिल सकता है। भाजपा को एक और उप मुख्यमंत्री की तलाश है, जो राज्य के जातीय समीकरण में फिट बैठे। फरवरी के दूसरे हफ्ते में योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल में एक फेरबदल हो सकता है।

इसी दौरान एक और डिप्टी सीएम को शपथ भी दिलाई जाएगी। फिलहाल केशव प्रसाद मौर्य और डॉ. दिनेश शर्मा उपमुख्यमंत्री हैं। इस दौरान योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल के कुछ मंत्रियों के पर कतरे जा सकते हैं। संगठन में काम कर रहे कुछ लोगों को मंत्री बनाया जा सकता है। पार्टी के प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह इसका खाका तैयार कर चुके हैं। माना जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल के अंतिम फेरबदल में कम से कम दो कैबिनेट मंत्री समेत छह मंत्रियों को सरकार में शामिल किया जाएगा।

इसके अलावा योगी आदित्नाथ सरकार से कुछ मंत्रियों की छुट्टी हो सकती है जबकि कुछ के दायित्वों कमी की जाएगी। कुछ मंत्रियों को बड़ी जिम्मेदारी भी दी जा सकती है। संगठन से विद्यासागर सोनकर और विजय बहादुर पाठक में से किसी एक को सरकार में भेजा जा सकता है। पूर्व कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान की पत्नी संगीता चौहान भी चुनाव जीतकर आई हैं।

दूसरी ओर बुलंदशहर सीट से भाजपा विधायक वीरेंद्र सिरोही की पत्नी उषा सिरोही चुनाव जीती हैं। इनमें से भी किसी एक को सरकार में लाया जा सकता है। योगी मंत्रिपरिषद में इस समय कुल 54 मंत्री हैं जिनमें 23 कैबिनेट मंत्री हैं। नौ मंत्रियों को स्वतंत्र प्रभार के साथ राज्यमंत्री का दर्जा मिला है। जबकि 22 राज्य मंत्री हैं। योगी आदित्यनाथ सरकार का पिछला मंत्रिमंडल विस्तार 19 अगस्त 2019 में किया था।

Leave a comment

Your email address will not be published.