जयपुर के प्रसिद्ध ज्योतिषी पंडित सुरेश जोशी की भविष्यवाणी

जयपुर. कोरोनाकाल समाप्ति के साथ अवतरित हुआ वर्ष 2021 शनि और गुरू की युति के चलते नीचभंग राजयोग में व्य​तीत होगा। इससे राजनीतिक वर्ग की जनता को बरगलाने की क्षमता में कमी आएगी। निम्न आयवर्ग के लिए ये वर्ष स्वर्ण वर्षा जैसे मौके उपलब्ध कराएगा।

जयपुर के ख्यातिलब्ध ज्योतिषी पंडित सुरेश जोशी के विश्लेषण के अनुसार वर्ष 2021 का प्रारम्भ कन्या लग्न में हुआ है। इस वर्ष का मूलांक भी 5 है और 5 नम्बर का स्वामी बुध होता है। अर्थात इस वर्ष बुध का प्रभाव सभी ग्रहों से ज्यादा रहेगा। बुध इस वर्ष की लग्न कुंडली के चतुर्थ स्थान में बैठा है। चूंकि बुध यश का स्वामी है और यश का दूसरा नाम जनता यानी सर्व साधारण है। इसी के चलते देश के नेताओं और बड़े लोगों की कुंडली में चतुर्थ स्थान महत्वपूर्ण माना जाता है।

पंडित सुरेश जोशी का कहना है कि यह वर्ष जनता के लिए विशेष महत्वपूर्ण है, क्योंकि 2021 में शनि अपनी मकर राशि में पंच महायोगों से शश योग का निर्माण कर रहा है। ग्रहों में जज माने जाने वाले शनि शनै शनै चलने के कारण शनि नाम मिला है। शनि एक राशि में ढाई वर्ष रहता है, इसलिए सभी ग्रहों में इसका असर सबसे ज्यादा दिखता है। जिन लोगों का मकर लग्न या राशि मकर है, वे इस वर्ष में अत्यंत महत्वपूर्ण सफलताएं प्राप्त करेंगे।

जहां तक राजनेताओं का सवाल है तो अप्रेल 2021 तक गुरू अपनी नीच राशि मकर में शनि के साथ विचरण करेंगे। इससे नीचभंग राजयोग बनेगा जो राजनेताओं की जनता का ध्यान बंटाने की क्षमता में कमी लाएगा। उनका कहना है कि शनि कर्म और गुरू ज्ञान के लिए पहचाने जाते हैं। इसी के चलते
इस वर्ष शनि के भारी प्रभाव देखने को मिलेंगे।

वैसे भी सौर मंडल में शनि का स्थान अंतिम हैं। इसी वजह से उसे निम्न वर्ग का सूचक ग्रह माना जाता है। शनि का इस वर्ष में अपनी राशि में भ्रमण निम्न वर्ग को बड़ी राहत प्रदान करेगा। जनता और व्यापारी वर्ग राहत महसूस करेंगे। साथ ही ये वर्ष राजनीति के लिए भी महत्वपूर्ण रहेगा। पांच राज्यों में होने वाले चुनावों के परिणाम अप्रत्याशित होंगे। चुनावों में जनता वाकपटुता और कार्यपटुता में अंतर करने में सक्षम रहेगी। इसी से चुनाव परिणाम भारी उलटफेर कर सकते हैं।

जयपुर के मानसरोवर निवासी पंडित सुरेश जोशी का आकलन है कि शनि व गुरू का योग कार्य का विश्लेषण में रोल निभाएगा। इसी के चलते सड़कों पर खड़े देश के अन्नदाता की बात सरकार को आखिरकार माननी पड़ेगी। कुल मिलाकर ये वर्ष मिथुन, कर्क, कन्या, तुला और मकर राशियों के लिए श्रेष्ठ रहेगा। वृश्चिक, धनु, कुम्भ, मीन राशि वाले वाणी संयम रखकर अच्छा लाभ प्राप्त कर सकेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published.