सुनील शर्मा
जयपुर. आंखें शरीर का नाज़ुक अंग होती हैं, इसलिए इनकी देखभाल भी बहुत जरूरी होती है। कम्प्यूटर और मोबाइल में लगातार लंबे समय तक काम करने पर आंखों में जलन, थकान तथा भारीपन रहता है। कई बार चश्मा तक लग जाता है, लेकिन अगर हम कुछ छोटी बातों का ध्यान रखें तो आंखें सेहतमंद रहेगीं।

बादाम-सौंफ का मिश्रण बढ़ाए आँखों की रोशनी

बादाम, सौंफ और मिश्री को बराबर मात्रा में लेकर पीस लें। इस मिश्रण का 10 ग्राम हिस्सा, 250 मि.ली. दूध के साथ रात में सोने से पहले लें। 40 दिन तक लगातार इसका सेवन करें और इसे लेने के दो घंटे बाद तक पानी न पिएँ। इससे धीरे-धीरे आँखों की रोशनी बढ़ती है।

प्याज़ का रस

दोस्तों कमज़ोर द्रष्टि या आँखों की रोशनी को बढ़ाने के लिए प्याज भी एक अच्छा विकल्प है। इसके लिए आप एक बूंद प्याज के रस को एक बूँद शहद में मिलाकर इसे रात को सोने से पहले अपनी आंखों में लगायें | ये आपकी आँखों के लिए बहुत फायदेमंद है | इसको ऐसे लगाना है जैसे काजल लगाते हैं। इसके प्रयोग से आपकी आँखों को पहले जैसा ठीक किया जा सकता है।

पूरी नींद लेना जरूरी

पूरी नींद लेने से आपकी आँखों के साथ-साथ आपके पूरे शरीर को भी आराम मिलेगा और कभी भी सिर दर्द, थकान, आँखों में धुँधलापन महसूस नहीं होगा और सबसे ज्यादा आपकी आँखों की मांसपेशियों को आराम मिलेगा, जिससे आंखे हमेशा स्वस्थ रहेंगी।

नींबू भी है उपयोगी

नींबू, नारंगी और नींबू के पत्ते खाना शुरू करें। इन सभी में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होता है। ये विटामिन मोतियाबिंद को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यह दृष्टि (eye sight ) में भी सुधार करता है।

गाजर का जूस

गाजर का सेवन लगातार करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है। इसमे भरपूर मात्रा में फाइबर होता है, जो पोषक तत्वों की कमी पूरी करता है। नाश्ते में नियमित गाजर का जूस पीने से आंखों की रोशनी कभी कमजोर नहीं होती। गाजर में बीटा कैरोटीन होता है जो आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करता है। गाजर में विटामिन ए होने के कारण आंखों के रेटिना के असानी से काम करने में मदद करता है।

त्रिफला का सेवन

त्रिफला ऐसी आयुर्वेदिक औषधि है, जिससे शरीर की कई बीमारियों में फायदा मिलता है। इसलिए कहा जाता है कि त्रिफला के सेवन से कभी चश्मा नहीं चढ़ेगा और बाल सफेद नहीं होंगे। सुबह के समय त्रिफला खाने से शरीर को पोषक तत्व, आयरन और कैल्शियम मिलता है। रात को दूध के साथ सेवन करने से पेट के लिए लाभदायक है। त्रिफला चूर्ण में तीन भाग शहद और एक भाग घी का मिलाकर सेवन करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है।

सरसों के तेल से करें मसाज

सरसों का तेल हल्का गर्म करके उसकी कुछ बूंदे लें और इससे पैरों के तलवों की मसाज करें। इस उपाय को रोजाना करने से न केवल आंखों की रोशनी तेज होगी बल्कि इससे दिमाग भी फ्रेश रहेगा।

शहद और काली मिर्च

आंखों की रोशनी के लिए शहद और काली मिर्च का काम्बिनेशन बहुत कारगर है। इसके लिए रोजाना 1 चम्मच शहद में 1 चुटकी काली मिर्च पाउडर मिला कर खाएं।

गुलाब जल

गुलाब जल आंखों को ठंडक देने का कार्य करता है और इसको आंखों में डालने से आंखों की रोशनी बनी रहती है और कम भी नहीं होती है। इसलिए अगर आपको चश्मा चढ़ा हुआ है तो आप हफ्ते में दो बार गुलाब जल इनमें जरूर डालें। हालांकि गुलाब जल आंखों में डालने से पहले ये सुनिश्चित कर लें, कि ये आपकी आंखों को सूट करता हो और जो जल आप डाल रहे हैं वो सही क्वालिटी का हो।

आंवला है गुणकारी

आंवले में वितामिन C होता है, जो आँखों के लिए बहुत अच्छा होता है. आप आंवले को किसी भी रूप में खाएं, उसका पाउडर , जैम, मुर्रबा, दवाई, जूस कैसे भी ले सकते है। इसे लगातार लेने से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.