जयपुर. प्रसिद्ध ज्योति​षी पंडित सुरेश जोशी ने भविष्यवाणी की है कि जिस दिन किसान आंदोलन 63वें दिन में प्रवेश करेगा। सरकार उस दिन तीनों विवादित ​कृषि बिल वापस ले लेगी।

सटीक निकली दो दिन पहले की भविष्यवाणी

जोशी ने दो दिन पहले बुधवार को भविष्यवाणी की थी कि सरकार को इस मामले में पीछे हटना होगा और ठीक एक दिन बाद गुरूवार को सरकार ने किसानों को प्रस्ताव दे दिया कि वह कृषि कानूनों पर अमल डेढ़ साल तक स्थगित कर सकती है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जन्मकुंडली के अध्ययन के बाद पंडित सुरेश जोशी का आकलन है कि मोदी की वृश्चिक लग्न वाली कुंडली में मंगल पंच महायोगों में से एक रूचक योग बना रहा है। रूचक योग व्यक्ति को फर्श से अर्श पर ले जाता है और प्रधानमंत्री पर ये बात बिल्कुल फिट बैठती है।

मंगल से टकराव मोल ले बैठे हैं मोदी

पंडित सुरेश जोशी का कहना है कि मंगल की मेहरबानी से जिद्दी स्वभाव के प्रधानमंत्री इस बार मंगल से ही टकराव मोल ले बैठे हैं। मंगल का एक नाम भूमिपुत्र भी है और आंदोलनरत किसान भी भूमिपुत्र हैं। ज्योतिषी सुरेश जोशी का आकलन है कि मंगल के कारण बने जिस रूचक योग ने मोदी को चोटी पर पहुंचाया, वह रूचक योग मंगल से टकरा जाने की वजह से काम नहीं करेगा।

पद के हिसाब से पिता की असफलता है किसान आंदोलन

इसी वजह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार को तीनों कृषि बिल वापस लेने ही पड़ेंगे। जोशी के अनुसार पद के हिसाब से प्रधानमंत्री देश के पिता के स्थान पर है और एक पिता अपने बच्चों को ठंड में ठिठुरते और मरते हुए देख रहा है। ये असफलता का प्रतीक है। उनका कहना है कि सरकार आंदोलन के 63वें दिन तीनों कानूनों को वापस ले लेगी।

यहां यह उल्लेखनीय है कि ज्योतिषी पंडित सुरेश जोशी ने हिंदी हैडलाइन डॉट काम पर ही सरकार के पीछे हटने की भविष्यवाणी की थी और उसी के मुताबिक सरकार ने बिलों के क्रियान्वयन को स्थगित रखने का प्रस्ताव दिया था।

Leave a comment

Your email address will not be published.