नई दिल्ली. चीनियों की भूख इतनी बढ़ गई है कि उन्होंने समुद्री घोड़े की नस्ल को संकट में डाल दिया है। चीनी समुद्री घोड़े यानि सीहार्स को चाव से खाते हैं और इसी वजह से रोक होने के बावजूद सीहार्स की तस्करी जोरों पर हैं। इससे सीहार्स लुप्त होने के कगार पर आ पहुंचा है। चीन में सीहार्स ऊंची कीमत पर बिकता है। रोक के बावजूद पश्चिमी अफ्रीकी देशों में सीहार्स का लगातार शिकार किया जा रहा है। सीहार्स उष्णकटिबंधीय जलीय इलाके में पाया जाता है।

पश्चिमी अफ्रीका में सीहॉर्स के व्यापार में पिछले कुछ सालों में बहुत तेजी से बढ़ोतरी हुई है। समुद्री संरक्षण चैरिटी प्रोजेक्ट सीहॉर्स के मुताबिक हर साल करीब छह लाख सीहॉर्स का निर्यात किया जा रहा है। सीहॉर्स की तस्करी के दो ही रास्ते हैं। दोनों एशिया और खासकर चीन में सीफूड के व्यापार से जुड़े हुए हैं।

पश्चिमी अफ्रीका का पूरा समुद्री व्यापार दकार से ही चलता है. दकार में इस इलाके का सबसे बड़ा बंदरगाह है जो सीफूड व्यापार का हब है। शिकार की सबसे अच्छी जगहों में से एक सोलम डेल्टा के साथ पड़ोसी देशों गाम्बिया, गिनी और गिनी बिसाउ में भी ये अच्छी मात्रा मे उपलब्ध हैं। सीहॉर्स की कालाबाजारी का बाजार हर साल करीब 18 अरब यूरो का है। इंटरपोल के मुताबिक अवैध शिकार के बढ़ने से इसकी कई प्रजातियों पर खतरा बढ़ गया है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक 2009 से 2017 तक दुनियाभर में समुद्री जीवों की तस्करी में 24.4 प्रतिशत हिस्सा सीहॉर्स की तस्करी का था। एक कंटेनर में 20 हजार सीहॉर्स हो सकते हैं। एक सीहॉर्स की कीमत 8.8 यूरो यानी करीब 700 रुपये होती है। चीन में सीहॉर्स का इस्तेमाल पारंपरिक दवाइयों में किया जाता है जो अस्थमा, इंसोमनिया और हृदय की बीमारियों में काम आती हैं।

चीनी सीहॉर्स को जमीन पर सुखा कर पाउडर बनाकर रख लेते हैं फिर उसे राइस वाइन,चाय या सूप में डालकर पिया जाता है। पर्यावरणशास्त्रियों के अनुसार सेनेगल से सीहॉर्स की तस्करी की समस्या कई सालों से रडार पर है। पश्चिमी अफ्रीकी सीहॉर्स जो पश्चिमी अफ्रीकी तट से अंगोला की तरफ तैरते हैं, उनका शिकार बड़ी संख्या में किया जा रहा है जिससे वे विलुप्त होने की कगार पर पहुंच गए हैं।

2016 के आखिर में सीहॉर्स के व्यापार पर पूरी तरह रोक लगा दी गई थी। 2019 की शुरुआत में सभी तरह के सीहॉर्स के व्यापार पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई। सीहॉर्स की करीब 40 हजार प्रजातियां विलुप्ति के कगार पर पहुंच चुकी हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक हांगकांग में मिले सभी सुखाए गए सीहॉर्स में 95 प्रतिशत उन देशों से लाए गए थे जहां पर इनका शिकार प्रतिबंधित है।

Leave a comment

Your email address will not be published.