नई दिल्ली. देश के दवा नियंत्रक ने जिन दो टीकों के उपयोग की मंजूरी दी है, उनमें से ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और एस्ट्राजेनेका की सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ मिलकर तैयार कोविशील्ड की कीमत 200 रुपये प्रति वायल होगी। देश में कोरोना से बचाव के लिए स्‍वीकृत ऑक्‍सफोर्ड वैक्‍सीन की खरीद का आर्डर 200 रुपये प्रति वायल के आधार पर दिया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार कोविशील्‍ड की कुछ मिलियन डोज हर सप्‍ताह सप्‍लाई की जाएंगी। शुरुआत में एक करोड़ 10 लाख डोज की आपूर्ति होगी। टीकाकरण 16 जनवरी से शुरू किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि दवा नियंत्रक ने जिन दो टीकों के सीमित आपात उपयोग की मंजूरी दी है, उनमें ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और एस्ट्राजेनेका की सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ मिलकर तैयार कोविशील्ड तथा भारत बायोटेक की स्वदेशी कोवैक्सीन शामिल है।

केंद्र सरकार पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि 3 करोड़ हेल्थ वर्कर और फ्रंटलाइन वर्करों को टीका सबसे पहले निशुल्क टीका लगाया जाएगा। पहले चरण में बाकी 27 करोड़ लोगों का टीकाकरण उसके बाद शुरू होगा। हालांकि हेल्थ वर्कर और फ्रंटलाइन वर्करों के अलावा अन्य को टीका मुफ्त मिलेगा या नहीं, इस पर अभी स्थिति स्पष्ट नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना टीकाकरण तैयारियों पर एक उच्च स्तरीय बैठक कैबिनेट सेक्रेटरी, प्रधानमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी और स्वास्थ्य सचिव के साथ कर चुके हैं। बैठक में पीएम को बताया गया कि किस तरह से राज्यों के साथ मिलकर जल्द शुरू होने वाले टीकाकरण अभियान की तैयारियां की जा रही हैं। कोविन एप पर उन 79 लाख लाभार्थियों का रजिस्ट्रेशन कराया जा चुका है जिन्हें शुरुआत में टीका दिया जाना है।

यहां यह उल्लेखनीय है कि दोनो वैक्सीन को मंजूरी दिए जाने के बाद सीरम इंस्टीट्यूट तथा भारत बायोटेक के बीच वैक्सीन की गुणवत्ता को लेकर वाकयुद्ध हो चुका है। बाद में दोनों कम्पनियों के शीर्ष नेतृत्व ने इस पर समझौता कर लिया था।

Leave a comment

Your email address will not be published.