जयपुर. जयपुर में छापे के दौरान आयकर अधिकारियों को मिली ज्वैलर की सुरंग में कई रहस्य छुपे हुए हैं। ज्वैलर समूह के ऑफिस में 19 जनवरी को रेड में एक सुरंग मिली थी जिसमें दस्तावेजों और एंटीक आयटम मिले हैं। जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव के अनुसार भारी मात्रा में मिले एंटीक के सोर्स की जांच करेंगे। विदेशियों को एंटीक सामग्री बेचने के मामले की भी पुलिस अलग से केस दर्ज करके जांच करेगी। ज्ञात रहे कि 100 साल पुरानी वस्तुएं एंटीक की श्रेणी में आती हैं, इन्हें विदेशियों को बेचने पर प्रतिबंध है

आयकर अधिकारियों ने लिखा पुलिस को पत्र

सिल्वर ग्रुप के यहां पड़े छापों में सुरंग में मिले एंटीक आयटम्स और इसमें से कुछ को विदेशियों को बेचने के दस्तावेज सामने आने के बाद पुलिस भी सक्रिय हो गई है। आयकर विभाग ने जयपुर पुलिस कमिश्नर को चिट्ठी लिखकर इस मामले की सूचना दी है। विदेशियों को ​एंटीक सामग्री बेचने के मामले में पुख्ता सबूत मिले तो समूह पर अलग से केस दर्ज होगा।

100 साल से ज्यादा पुराने हैं एंटीक आयटम

सूत्रों के मुताबिक, सिल्वर आर्ट ग्रुप की सुरंग में मिले दस्तावेजों और एंटीक सामग्री की जांच जारी है। कई एंटीक आयटम्स 100 साल से ज्यादा पुराने बताए जा रहे हैं। एंटीक आयटम्स विदेशियों को बेचने के सबूत सामने आने के बाद अब मामले में पुलिस भी शामिल हो गई है। जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने कहा कि ज्वैलर ग्रुप के यहां आयकर विभाग को जो एंटीक चीजें मिली हैं उसकी जांच करेंगे। जांच होगी कि क्या एंटीक चीजें नियमानुसार रखी हैं? इसका स्रोत क्या है, किस स्रोत से एंटीक हासिल किए हैं? एंटीक विदेशियों को बेचना गैर कानूनी है। पुलिस प्रत्येक एंटीक आइटम के रजिस्ट्रेशन की जांच करेगी। आयकर विभाग काम खत्म कर लें उसके बाद पुलिस काम शुरू करेगी। अगर भारी मात्रा में एंटीक मिला है तो है उसके सोर्स की जांच करना जरूरी है।

अब तक हैरान हैं आयकर अफसर

सिल्वर आर्ट ग्रुप के यहां मिली सुरंग को देख आयकर अफसर भी चौंक गए थे। सुरंग में मिले एंटीक आइटम्स और दस्तावेजों के साथ अल्फा न्यूमेकिरक कोड में मिले हिसाब ​किताब के सबूत मिले हैं। समूह के यहां 700 करोड़ के आसपास अघोषित आय की गणना की जा चुकी है।

Leave a comment

Your email address will not be published.