Dragon fruit is dengue’s enemy: नई दिल्ली. भाजपा की गुजरात सरकार ने जिस ड्रेगन फ्रूट का नाम कमलम करने की घोषणा की है, वह डेंगू का दुश्मन है। ये डेंगू रोगियों में प्लेटलेट्स गिरने की रफ्तार को रोक देता है। इसके सेवन से शरीर में हीमोग्लोबिन और विटामिन सी की मात्रा बढ़ती है जिससे प्रतिरोधी क्षमता बेहतर होती चली जाती है। Dragon fruit: गुजरात के कच्छ, सौराष्ट्र और दक्षिणी गुजरात में उगाया जाने वाला ड्रैगन फ्रूट शरीर की प्रतिरोधक शक्ति को इतना मजबूत बना देता है कि कई वर्षों तक डाक्टर के पास जाने की जरूरत तक नहीं पड़ती। ड्रैगन फ्रूट के पौधों पर तीन साल बाद अनगिनत फल आने लगते हैं।

शरीर में जाते ही बढ़ाने लगता है हीमोग्लोबिन और विटामिन सी

हर पौधे से क़रीब 15-16 किलोग्राम फल मिलते हैं। डेंगू प्रकोप के समय में इसकी क़ीमत 500 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच जाती है। दिल्ली से प्रकाशित एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि ड्रैगन फ्रूट के इस्तेमाल से शरीर में हीमोग्लोबिन और विटामिन सी की मात्रा बढ़ती है जिससे प्रतिरोधी क्षमता बेहतर होती है। Dragon fruit

स्वाद में फीका होता है गहरे रंग का ड्रैगन फ्रूट

ड्रैगन फ्रूट उत्पादन में गुजरात का कच्छ इलाक़ा अग्रणी है। इसकी खेती पथरीली ज़मीन पर भी हो सकती है। लैटिन अमेरिकी देशों के फल ड्रैगन फ्रूट में कीवी की तरह ही बीज होते हैं। वियतनाम ड्रैगन फ्रूट का सबसे बड़ा निर्यातक देश है। भारत में ड्रैगन फ्रूट की खेती की शुरुआत 1990 के दशक में हुई। गुजरात के अलावा केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में भी इसकी खेती होती है। यह किसी भी तरह की ज़मीन में उगाया जा सकता है। Dragon fruit

विपरीत मौसम में भी उग जाने वाले ड्रेगन फ्रूट को बहुत पानी की ज़रूरत नहीं होती। ड्रैगन फ्रूट लाल और सफेद रंग के होते हैं। फल को बीच से काटकर निकाला जाता है। यह काफ़ी मुलायम होता है। गहरे रंग का ड्रैगन फ्रूट स्वाद में फीका होता है। Dragon fruit

कमलम नाम देने से पहले गुजरात को लेनी होगी वैज्ञानिकों से इजाजत

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ड्रैगन फ्रूट का नाम बदलकर कमलम करने के प्रस्ताव को तब तक अमल में नहीं लाया जा सकता जब तक भारतीय बॉटनिकल सर्वे (बीएसआई) और नेशनल बायोडायवर्सिटी अथॉरिटी (एनबीए) इसकी अनुमति नहीं दे दे। इसकी वजह ड्रैगन फ्रूट का भारतीय मूल का नहीं होना है। ड्रैगन फ्रूट का आधिकारिक तौर पर नाम बदलने से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क़ानूनी आपत्तियां उठ सकती हैं। Dragon fruit

Leave a comment

Your email address will not be published.