जयपुर. सार्वजनिक निर्माण विभाग के ​भ्रष्टाचार के चलते राज्य सचिवालय के पास एक मुख्य सड़क अचानक धंस गई और उसमें 25 फीट गहरा गड्ढा हो गया। गड्ढे में उसी समय गुजर रहा एक आटो जा गिरने से दो व्यक्तियों की जान बड़ी मुश्किल से बचाई जा सकी।

स्पीड से जा रहा था, एक्शन सीन की तरह नीचे जा गिरा

जानकारी के अनुसार जयपुर में सचिवालय से एक किमी दूर चौमूं हाउस सर्किल पर शनिवार सुबह अचानक सड़क धंस गई। सड़क पर 25 फीट गहरा और 30 फीट चौड़ा गड्ढा हो गया। इसमें सड़क से गुजर रहा एक ऑटो समा गया। इसमें ऑटो चालक और युवती घायल हो गई। हादसा सुबह 6 बजे हुआ। मौके पर मौजूद लोगों ने पुलिस को सूचना दी। हादसे के तुरंत बाद वहां एक सुरक्षा गार्ड और कुछ ऑटो चालक पहुंच गए। उन सभी ने रस्सी की मदद से युवती और ऑटो चालक को गड्ढे से बाहर निकाला। दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। शहर के जिस चौमूं हाउस सर्किल पर सड़क धंसी है वह बेहद व्यस्त सड़क है। यहां दिनभर दोपहिया, कार, बसों समेत 50 हजार से ज्यादा वाहन गुजरते हैं।

सड़क पर अचानक धंस गई जमीन

आस पास से मदद के लिए पहुंचे लोगों ने रस्सियों को बांधकर युवती को बाहर निकाला। हादसे में घायल युवती का नाम रेखा कोटिया (28) है। वह सुबह सिंधिकैंप बस स्टैंड से ऑटो में बैठकर घर जा रही थी। ऑटो सहकार रोड से होकर टोंक फाटक की तरफ जा रहा था तभी चौमूं हाउस सर्किल पर हादसा हुआ। कुछ सेकंड्स में धंसी सड़क से ऑटो चालक को संभलने का मौका ही नहीं मिला और ऑटो गड्‌ढे में समा गया।

पहुंच गया प्रहलाद अन्यथा……

हादसे के तुरंत बाद नजदीक में ही चाय पी रहा एक सुरक्षा गार्ड प्रहलाद मौके पर पहुंचा। उसने देखा तो युवती और चालक गड्‌ढे के अंदर चिल्ला रहे थे। इस दौरान वहां कुछ और ऑटो चालक पहुंच गए। युवती और ड्राइवर को बाहर निकालने के लिए सभी ने ऑटो स्टार्ट में इस्तेमाल होने वाली रस्सियों, मफलर और तौलिया को जोड़ा। फिर रस्सी नीचे डालकर युवती और ड्राइवर को बांधकर बाहर निकाला। हालांकि इस दौरान इस बात को लेकर सभी डरे थे कि कहीं सड़क का और हिस्सा न धंस जाए।

क्रेन से बाहर निकाला ऑटो

घायल युवती रेखा टोंक फाटक के पास मधुबन कॉलोनी की रहने वाली है। उसे इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। घटना की सूचना मिलने पर अशोक नगर थाना और दुर्घटना थाना दक्षिण पुलिस मौके पर पहुंची। इसके बाद क्रेन से ऑटो रिक्शा को बाहर निकाला गया।

उपायुक्त ने बेशर्मी से कहा, सीवर लाइन थी धंस गई

हादसे के बाद जयपुर नगर निगम उपायुक्त आरके मेहता ने कहा कि जो सड़क धंसी है उसके नीचे 50 साल पुरानी सीवर लाइन है। उस सीवर लाइन की लाइफ खत्म हो चुकी थी। इसे बदलने के टेंडर निकाले जा चुके हैं। इसके निर्माण में 1 करोड़ की लागत आनी है। सड़क को फिलहाल लोगों के लिए बंद किया गया।

Leave a comment

Your email address will not be published.