लॉकडाउन के दौर का हिसाब-किताब आया सामने

नई दिल्ली. बैंगलूरू ने चिकन बिरयानी की दिन-रात दावत उड़ाई तो मुम्बई ने खिचड़ी खाकर अपने दिन काटे लेकिन गुडगांव के लोगों ने आलू टिक्की के साथ बर्गर खाकर भूख शांत की। अलबत्ता पुणे के लोगों ने मैगी पर जमकर हाथ साफ किया।

एक खरीदारी एप के आंकड़ों के मुताबिक लॉकडाउन के दौरान जब लोग घरों में बंद थे तो पेट भरने के लिए दिए गए तैयार भोजन के आर्डरों से ये तस्वीर सामने आई है। इस समयावधि में बैंगलूरू और चेन्नई के लोगों ने रोलिंग पेपर से सिगरेट बनाकर धुएं के छल्ले जमकर उड़ाए। एक रिपोर्ट के अनुसार बेंगलुरु के नागरिकों ने चेन्नई से 22 गुना अधिक रोलिंग पेपर खरीदा। इस पेपर का उपयोग सिगरेट बनाने के लिए किया जाता है।

ऐप का इस्तेमाल करके चेन्नई में इडली का सबसे ज्यादा ऑर्डर किया गया। दिल्ली, चेन्नई और जयपुर ने चाय की तुलना में कॉफी का ऑर्डर किया। हैदराबाद, चेन्नई, बेंगलुरु और मुंबई के लोगों ने चीनी की तुलना में गुड़ की अधिक खरीददारी की। बेंगलुरु, पुणे, चेन्नई और हैदराबाद में बिल्ली के खाने के ऑर्डर अधिक थे। लोगों के पढ़ने की आदत भी बढ़ी और उन्होंने पढ़ने के लिए किताबें खूब मंगाई।

कोरोना लॉकडाउन के कारण से कई महीनों तक घरों में बंद रहे लोगों ने ऐप के माध्यम से दिन की तुलना में रात को तीन गुना अधिक खरीदारी की। हैदराबाद में इस दौरान खरीदारी में 6 गुना उछाल देखा गया है। चेन्नई में 5 गुना, जयपुर में चार गुना अधिक लोगों ने खरीदारी की। दिल्ली और मुंबई में भी सामान्य दिनों की अपेक्षा 3 गुना अधिक आंकड़ा दर्ज किया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.