जयपुर. रेड मूवी के भ्रष्ट सांसद ताऊजी से ज्यादा चालाक जयपुर के एक ज्वैलर ने दो दीवारों को इस तरह चुनवाया कि उनके बीच कालाधन छुपाने की सुरंग बन गई। उस सुरंग में ज्वैलर ने पांच सौ करोड़ से ज्यादा की दौलत छुपा रखी थी। कालेधन की इस सुरंग को देखकर आयकर अधिकारी हैरत में पड गए। सुरंग का पता तब चला जब अधिकारियों ने दस घंटे तक एक—एक दीवार की जांच की। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड की ओर से जारी आधिकारिक बयान में इस सुरंग का जिक्र किया गया है।

अरबों की अघोषित आय के सबूत मिले

राजधानी जयपुर के तीन कारोबारी समूहों पर पड़े आयकर छापों में सबसे चौंकाने वाला मामला ज्वैलर समूह सिल्वर आर्ट ग्रुप के ठिकाने पर मिली सुरंग का रहा। सुरंग से सैकड़ों करोड़ के बेनामी संपत्ति और अघोषित आय के दस्तावेज मिले हैं।
सिल्वर आर्ट ग्रुप पर तीन दिन से कार्रवाई जारी है। पहले दिन 19 जनवरी को समूह के ठिकानों पर छापे में आयकर अफसरों को कुछ हाथ नहीं लगा। पुख्ता सबूत होने के कारण अफसरों ने पूरे परिसर में तहखानों, बेसमेंट और दीवारों की बारीकी से जांच करना शुरू कर दिया।

छुपा रखा था डिजीटल डेटा

करीब 10 घंटे की मशक्कत के बाद आयकर अफसर ये देखकर दंग रह गए कि कितनी सफाई से एक कमरे में एक दीवार के आगे दूसरी दीवार खड़ी करके दोनों दीवारों के बीच के भाग को खोदकर गहरा कर दिया गया था। बारीकी से जांच करने पर एक ढक्कननुमा छेद मिला। उस ढक्कन को हटाने पर एक पतली सुरंग का दरवाजा मिला जिसमें एक आदमी भी बहुत मुश्किल से प्रवेश कर सकता था। सुरंगनुमा तहखाने की तलाशी ली तो अंदर खजाना छिपा हुआ मिला। सुरंग में भारी मात्रा में ज्वैलरी, अकूत काली कमाई के दस्तावेज और बेनामी लेनदेन के सबूत छिपाए गए थे। काले धन से जुड़ा डिजिटल डेटा भी हार्ड डिस्क में छिपाकर रखा था।

ज्वैलर्स समूह के यहां अब तक 525 करोड़ की अघोषित आय के दस्तावेज मिल चुके हैं। जब्त दस्तावेजों से खुलासा हुआ है कि ज्वैलर समूह ने 122 करोड़ रुपए अलग-अलग कारोबारियों को ब्याज पर दे रखे हैं। ब्याज से होने वाली अघोषित आय कर्मचारियों और कारीगरों के बैंक खातों में आने के भी सबूत मिले हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.