दिल्ली हाईकोर्ट 5 फरवरी को फिर करेगा सुनवाई

नई दिल्ली. हाथरस ज़िले में बलात्कार के बाद बेरहमी से मारपीट के चलते इलाज के दौरान चल बसी दलित युवती की पहचान उजागर करने पर दिल्ली हाईकोर्ट ने एक याचिका की सुनवाई के दौरान पीड़िता की पहचान उजागर करने वाले मीडिया प्रकाशनों, दिल्ली पुलिस, ट्विटर, फेसबुक को नोटिस जारी किए है।

कई मीडिया संस्थान भी आए चपेट में

एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक चीफ जस्टिस डीएन पटेल और जस्टिस ज्योति सिंह की पीठ ने पीड़िता की पहचान उजागर करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए नोटिस जारी किए। नोटिस आईडिवा डॉट कॉम, न्यूज18, दैनिक जागरण, यूनाइटेड न्यूज ऑफ इंडिया (यूएनआई), दलित कैमरा, बज़फीड, यूट्यूब, द मिलेनियम पोस्ट, द सिटिजन आदि को भी जारी किए गए। इनसे जवाब मांगा गया है।

याचिकाकर्ता मनन नरूला ने याचिका दायर कर आरोप लगाया कि आईपीसी की धारा 228ए का उल्लंघन किया गया है। विभिन्न मीडिया प्रकाशनों, पोर्टल और संस्थानों ने पीड़िता के बारे में ऐसी सूचना प्रकाशित की, जो व्यापक स्तर पर लोगों के बीच पीड़िता की पहचान को उजागर करती है। इसके अलावा आईपीसी की धारा 228ए का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ दिल्ली पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप भी लगाया गया है।

कठुआ मामले में हाईकोर्ट ने लिया था स्वतः संज्ञान

याचिका में मांग की गई कि दिल्ली सरकार को निर्देश दिए जाएं कि वह सोशल मीडिया मंचों और मीडिया संस्थानों से ऐसी कोई सामग्री, खबर, सोशल मीडिया पोस्ट या ऐसी कोई भी सूचना हटाने को कहे, जिनमें हाथरस सामूहिक बलात्कार पीड़िता या इस तरह के अन्य मामलों की पीड़िता की पहचान का ब्यौरा हो।

याचिकाकर्ता के वकील ने पूर्व के कठुआ मामले का जिक्र करते हुए कहा कि पीड़िता की पहचान उजागर करने पर हाईकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लिया था। उस समय हाईकोर्ट ने कठुआ सामूहिक बलात्कार पीड़िता की पहचान उजागर करने को लेकर कई मीडिया संस्थानों को फटकार भी लगाई थी। याचिका में कहा गया है कि कई सेलेब्रिटीज ने भी पीड़िता का नाम हैशटैग के साथ पोस्ट किया था। जबकि बलात्कार पीड़िता की पहचान उजागर करना अपराध है। मामले की अगली सुनवाई पांच फरवरी को होगी।

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में 14 सितंबर 2020 को चार युवकों ने 19 साल की दलित युवती के साथ बर्बरतापूर्वक मारपीट करने के साथ बलात्कार किया था। इससे युवती की रीढ़ की हड्डी और गर्दन में गंभीर चोटें आई थीं। करीब 10 दिन के इलाज के बाद उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन 29 सितंबर 2020 को युवती ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

Leave a comment

Your email address will not be published.