जयपुर. प्रदेश में 90 स्थानीय निकायों में 28 जनवरी को होने वाले चुनाव को निष्पक्ष बनाए रखने का जिम्मा प्रदेश के 37 अधिकारियों को दिया गया है। जिन अधिकारियों को चुनाव की निगरानी का दायित्व दिया गया है, उनमें भारतीय प्रशासनिक सेवा के साथ ही राजस्थान प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हैं।

राज्य चुनाव आयुक्त पीएस मेहरा के अनुसार चुनाव निगरानी के लिए तैनात अधिकारी चुनाव के दौरान राज्य निर्वाचन आयोग और रिटर्निंग अधिकारी के बीच कड़ी का काम करेंगे। वे निकायों के चुनाव से जुड़ी सूचनाएं राज्य चुनाव आयोग को भेजेंगे। ज्ञात रहे कि प्रदेश के 20 जिलों (अजमेर, बांसवाड़ा, बीकानेर, भीलवाड़ा, बूंदी, प्रतापगढ़, चित्तौड़गढ़, चूरू, डूंगरपुर, हनुमानगढ़, जैसलमेर, जालौर, झालावाड़, झुंझुनूं, नागौर, पाली, राजसमंद, सीकर, टोंक और उदयपुर) के 90 निकायों (1 नगर निगम, 9 नगर परिषद और 80 नगर पालिका) में सदस्य पदों के लिए 28 जनवरी को मतदान करवाया जाएगा। मतगणना 31 जनवरी को होगी।

मेहरा के अनुसार भारतीय प्रशासनिक सेवा और राजस्थान प्रशासनिक सेवा के जिन वरिष्ठ अधिकारियों को ये जिम्मेदारियां दी गई हैं, उनमें अजमेर जिले की अजमेर नगर निगम के लिए मेघराज रत्नू, नगर पालिका किशनगढ़ के लिए शुभम चैधरी, विजयनगर, केकड़ी और सरवाड़ के लिए भंवर सिंह संधू को पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है। बांसवाड़ा की कुशलगढ़ नगरपालिका के लिए डॉ. मंजू, बीकानेर की नगर पालिका नोखा, देशनोक के लिए अजीत सिंह राजावत, नगरपालिका श्रीडूंगरगढ़ के लिए गोपाल राम बिरदा, भीलवाड़ा जिले की गंगापुर नगर पालिका, नगर परिषद भीलवाड़ा के लिए ओमप्रकाश कसेरा, नगर पालिका शाहपुरा, जहाजपुर, मांडलगढ़ के लिए डॉ. राकेश कुमार शर्मा, आसींद, गुलाबपुरा के लिए श्रीमती सीमा शर्मा, बूंदी जिले की नगर पालिका बूंदी के लिए अनुप्रेरणा सिंह कुंतल, नगर पालिका नैनवा, इंद्रगढ़, लाखेरी, केशोरायपाटन, कापरेन के लिए पंकज कुमार ओझा, चित्तौड़गढ़ जिले की नगर पालिका बड़ीसादड़ी, कपासन के लिए ओमप्रकाश तृतीय, नगरपालिका बेंगू के लिए डॉ. वृद्धि चंद गर्ग को पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.