नई दिल्ली. ऑल इंडिया यूनानी तिब्बी कांग्रेस का 40वां राष्ट्रीय यूनानी तिब्बी सम्मेलन नागपुर में 25 दिसंबर को होगा. सम्मेलन की मेजबानी महाराष्ट्र शाखा करेगी. माना जा रहा है कि इस सम्मेलन में तिब्बिया कॉलेजों की मान्यता दिए जाने की अडचनें दूर किए जाने की मांग जोर—शोर से उठ सकती है. महाराष्ट्र में सात तिब्बिया कालेज हैं जिनमें से पांच मान्यता नहीं मिलने के संकट का सामना कर रहे हैं.

ऑल इंडिया यूनानी तिब्बी कांग्रेस के महासचिव डा. सैयद अहमद खान ने बताया कि सम्मेलन की अध्यक्षता प्रोफेसर मुश्ताक अहमद करेंगे. डा. खान ने बताया कि सम्मेलन की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है और इसके लिए एक समीक्षा बैठक डॉ. एस एम हुसैन, डॉ. एस एम याकूब, डॉ. नदीम उस्मानी, डॉ. मुहम्मद ओवैस हसन, डॉ. अब्दुल अजीज सोलंकी और डॉ. काशिफ आदि की भागीदारी के साथ की जा चुकी है.

तिब्बी कांग्रेस के महासचिव डा. सैयद अहमद खान के अनुसार समीक्षा बैठक में डॉ. एस एम हुसैन ने बताया कि तिब्बी कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनवाल, केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और NCISM चेयरमैन डॉ. जयंत देव पुजारी से मुलाकात करके सम्मेलन में आने का निमंत्रण दिया. सभी ने सम्मेलन में भाग लेने का वादा किया है.

मुलाकात के दौरान डॉ. जयंत देव पुजारी से अनुरोध किया गया कि तिब्बिया कॉलेजों में नए दाखिले देने के लिए जल्द से जल्द स्वीकृति जारी करवाएं. बता दें कि महाराष्ट्र में कुल सात तिब्बिया कॉलेज हैं, जिनमें केवल दो पुणे और मालेगांव को ही स्वीकृति पत्र मिला है.देश के अन्य प्रांतों में भी लगभग यही स्थिति है. इसी वजह से समीक्षा बैठक में हर साल स्वीकृति पत्र जारी करने के बजाय एक बार में कम से कम पांच साल के लिए मंजूरी देने की मांग भी की गई.

Leave a comment

Your email address will not be published.