जयपुर. तकरीबन दस माह बाद राजस्थान में नौवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थियों के स्कूल खुल गए। घरों में बंद बच्चे खुशी से स्कूल पहुंचे और पुराने साथियों से मिलकर बेहद खुश हुए। कई बच्चों ने एक दूसरे की सेहत को लेकर टिप्पणियां भी की।

राज्य में कोरोना आने के गत मार्च से सभी स्कूलें बंद होने के बाद से स्कूलों में सन्नाटा पसरा हुआ था लेकिन कोरोना के आंकड़ों में कमी आने पर सोमवार से नौवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थियों के लिए फिर स्कूलें खोलने की अनुमति मिलने के बाद प्रदेश में तीस हजार से अधिक स्कूल खुल गए। बच्चों के स्कूल जाने से वीरान पड़े स्कूलों में रौनक लौट आई और स्कूलें बच्चों की आवाज से गूंजने लगी।

कई महीनों बाद स्कूल पहुंचे विद्यार्थियों का अध्यापकों ने स्कूल के मुख्य दरवाजे पर स्वागत किया और कोरोना नियमों की पालना करते हुए उनका तापमान भी जांचा गया। स्कूल के कक्षा में भी बच्चों को दूरी बनाकर बैठाया गया। हालांकि पहले दिन स्कूलों में बच्चे कम ही आये हैं लेकिन धीरे धीरे इनकी संख्या में इजाफा होगा और पहले जैसी स्थितियां बन सकेगी।

राज्य सरकार ने अभी नौवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थियों के अभिभावकों की सहमति से स्कूल आने की अनुमति दी है। माना जा रहा है कि कोरोना के आंकड़ों में गिरावट आने पर आने वाले दिनों में शीघ्र ही कक्षा छह से आठवीं तक के बच्चों को भी स्कूल जाने की अनुमति दी जा सकती है। दस महीनों बाद स्कूल खुलने पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने सभी को शुभकामनाए दी हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.