किसानों के दिल्ली की ओर बढ़ने पर निपटने की रणनीति

नई दिल्ली. अगर सरकार ने दिल्ली को घेरे बैठे किसानों पर कार्रवाई के आदेश दिए और किसान दिल्ली की ओर बढ़े तो पुलिस और सुरक्षाबल अनूठी रणनीति अपनाएंगे। उनके हरावल दस्ते में शामिल रैपिड एक्शन फोर्स के जवान किसानों के आगे बढ़ते ही जमीन पर बैठ जाएंगे और किसानों से अनुरोध करेंगे कि जाना है तो उनके ऊपर से जाएं।

अगर किसान उन्हें पार करते हैं तो दिल्ली पुलिस भी इसी तरह सड़क पर बैठे मिलेगी। किसानों के इस बाधा को पार करने के बाद बीएसएफ कड़ा एक्शन लेकर किसानों को पीछे धकेल देगी। सिंधु बार्डर पर सुरक्षा बलों ने रविवार इस रणनीति का अभ्यास भी किया।

उधर एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने केंद्र सरकार को चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने किसानों की मांगों पर विचार नहीं किया तो ये आंदोलन सिर्फ दिल्ली तक सीमित नहीं रहेगा। सरकार को किसानों की मांगों पर परिपक्वता दिखानी चाहिए। पवार ने कहा कि अगर किसानों की मांग पर विचार नहीं हुआ तो लोग उन्हें समर्थन करेंगे।

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि किसानों की गर्जना पूरी दुनिया ने सुनी है। सिद्धू ने ट्वीट किया कि भारत का बहुसंख्यक ताकत दिखा रहा है। किसान आंदोलन अनेकता में एकता की रचना कर रहा है। ये असहमति की चिंगारी है जो एक आंदोलन में पूरे देश को एक कर देती है, जिसमें सभी जाति, रंग और नस्ल के लोग एक साथ हो जाते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.