जयपुर. राजस्थान के भीलवाड़ा में जहरीली शराब ने एक महिला समेत चार लोगों की मौत हो गई और पांच की हालत गम्भीर है। घायलों को महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मांडलगढ़ थाना क्षेत्र के सारण का खेड़ा गांव की इस घटना के बाद आबकारी और पुलिस विभाग में हड़कंप है। गांव में कई जगह छापेमारी की गई है। मांडलगढ़ थाने के तीन पुलिस कर्मियों को सस्पेंड किया है। मांडल थानाधिकारी मनोज कुमार समेत बीट कांस्टेबल और बीट प्रभारी शामिल हैं। जहरीली शराब से मौत का पता चलते ही कलेक्टर और एसपी मौके पर पहुंच गए।

जिन लोगों ने शराब पी, उनमें शराब बनाने वाली सतूडी कंजर नामक महिला भी शामिल है, जिसकी मौत हो गई। अब तक की जांच में यह पता चला है कि जहरीली शराब के शिकार सभी लोगों ने एक साथ शराब नहीं पी। बल्कि अपने घरों में या वहीं पर खरीद कर पी थी। जहरीली शराब पीने से हजारी बैरवा, सरदार भाट और दलेल सिंह राजपूत की भी मौत हो गई। दलेल की 3 माह पूर्व 29 नवम्‍बर 2020 को शादी हुई थी। जिन 5 लोगों की हालत गंभीर है, उनमें दो महिलाएं नीतू कंवर और मंजू कंवर शामिल हैं। इसके अलावा, लादू सिंह, भौम सिंह और गुल्‍ला कंजर की हालत भी गंभीर है।

जिले के कलेक्टर और एसपी ने मौके पर पहुंचकर मामले की जानकारी ली है। पुलिस ने 5 किलोमीटर के दायरे में शराब की सभी दुकानों पर जांच शुरू की है। इनमें से कुछ को सील करने की कार्रवाई भी की जा रही है। पुलिस ने शक के आधार पर जांच शुरू की है कि कहीं शराब की लाइसेंसी दुकानों पर तो हथकढ़ शराब नहीं बिक रही। हथकढ़ शराब से मतलब घर में बनी हुई शराब से है। जानकारी में सामने आया है कि कंजर बस्ती के लोग ही इस तरह की शराब बनाते हैं। इसे महुवा और गुड़ से बनाया जाता है।

इससे पहले 13 जनवरी को भरतपुर के रूपवास में जहरीली शराब पीने से 8 लोगों की मौत हो गई थी और कुछ लोगों को दिखना बंद हो गया था। इसके बाद पुलिस और आबकारी विभाग ने कार्रवाई कर शराब की अवैध भट्टियां नष्ट की थीं।

Leave a comment

Your email address will not be published.