जयपुर. पिंक सिटी जयपुर की देखभाल का जिम्मा सम्भालने वाले नगर निगम के पास कॉलोनियों का रिकार्ड तो है लेकिन उसे ये पता नहीं है कि कौन सी कॉलोनी किस वार्ड में है।

ये संकेत तब मिले जब ग्रेटर नगर निगम के आयुक्त यज्ञ मित्र सिंह देव ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे रिकाॅर्ड संधारण के लिये संयुक्त अभियान चलाएं और काॅलोनियों के हिसाब से रिकार्ड संधारित करें।

उल्लेखनीय है कि जयपुर के नगर निगम को दो हिस्सों में विभाजित कर सरकार ने ग्रेटर और हैरिटेज नाम से दो नगर निगम बना दिए थे। दोनों नगर निगमों के हाल ही चुनाव हुए हैं।

संयुक्त अभियान के तहत 77 हजार पत्रावलियों के रिकाॅर्ड को काॅलोनी अनुसार संधारित किया जाएगा। यज्ञ मित्र सिंह देव ने निगम मुख्यालय में बैठक बुलाकर अधिकारियों से कहा कि सभी जोन उपायुक्त रिपोर्ट भेजें कि कौन-कौन सी काॅलोनियां किस वार्ड में हैं।

जहां तक कॉलोनियों के रिकार्ड की बात है तो एक साथ कर्मचारी लगाकर 7 से 10 दिन में रिकार्ड को संधारित किया जाए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक पत्रावली से स्पष्ट होना चाहिए वह किस जोन, किस वार्ड और किस काॅलोनी से सम्बन्धित है।

इसके अलावा निगम क्षेत्र स्थित सरकारी भूमि की जानकारी के लिए जोन उपायुक्तों के साथ पार्षदों को पत्र भेजकर जानकारी मगाई जाए ताकि निगम का लैंड बैक बनाया जा सके।

निगम के सफाईकर्मी, जमादार, स्वास्थ्य निरीक्षक, मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षक तथा अन्य कर्मचारियों की प्रतिनियुक्ति रद्द करके उन्हें तत्काल प्रभाव से निगम में ड्यूटी ज्वाइन करने को कहा जाए। बैठक में अतिरिक्त आयुक्त बृजेष चान्दोलिया, उपायुक्त मुख्यालय आभा बेनीवाल सहित सभी जोन एवं मुख्यालय पर पदस्थापित उपायुक्त एवं अन्य अधिकारी तथा सीएसआई उपस्थित थे।

Leave a comment

Your email address will not be published.