नई दिल्ली. बर्ड फ्लू की दहशत बढ़ती जा रही है। इसी के चलते सरकार ने उन पोल्ट्री फार्मों को मुर्गे—मुर्गी मारने के आदेश दिए हैं जिनके नमूनें जांच में बर्ड फ्लू ग्रस्त पाए गए। इस बीच राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई है। मृत कौवों और बत्तख के आठ नमूने एवियन फ्लू पॉज़िटिव पाए गए हैं।

पक्षियों की मौत का कारण एवियन इन्फ्लुएंजा

उल्लेखनीय है कि दिल्ली और महाराष्ट्र समेत 9 राज्यों में फैले बर्ड फ्लू को फैलने से रोकने के लिए देशव्यापी कोशिश की जा रही है। उत्तर प्रदेश, केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और गुजरात पक्षियों की मौत के लिए एवियन इन्फ्लुएंजा को कारण बता रहे हैं।

संसदीय समिति ने पूछा, पशु टीकों की कितनी उपलब्धता

मीडिया में आई खबरों के अनुसार कृषि मामलों की संसदीय समिति ने पशुपालन मंत्रालय अधिकारियों से देश में पशु टीके की उपलब्धता का पता लगाने के लिए कहा है। इस बीच
दिल्ली ने फिलहाल जीवित पक्षियों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है और गाज़ीपुर स्थित सबसे बड़े थोक पोल्ट्री बाज़ार को अस्थायी रूप से बंद कर दिया है।

महाराष्ट्र के मरूबां में मारे जाएंगे आठ हजार मुर्गे

महाराष्ट्र में राजधानी मुंबई से लगभग 500 किमी दूर परभणी बर्ड फ्लू का एपिसेंटर बन गया है। पिछले दो दिनों में लगभग 800 मुर्गे ​मृत मिले हैं। उनके नमूनों की जांच में पुष्टि हुई है कि उनकी मौत का कारण बर्ड फ्लू था। राज्य के मुरुंबा गांव में लगभग आठ पोल्ट्री फार्म और 8 हजार पक्षी हैं। बर्ड फ्लू को रोकने लिए इन पोल्ट्री पक्षियों को मारने के आदेश दिए गए हैं। पिछले हफ्ते सरकार ने साफ़ किया था कि बीमारी “जूनोटिक” हैलेकिन के इंसानों में भी संक्रमण मिलने के मामले सामने आए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.