नई दिल्ली. वेब सीरीज ‘मिर्जापुर’ के विवादित कंटेंट हटाने संबंधी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने निर्माता एवं अमेजन प्राइम वीडियो से जवाब तलब किया है।
मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की अगुवाई वाली खंडपीठ ने सुजीत कुमार सिंह की याचिका की सुनवाई के बाद केंद्र सरकार, एक्सेल एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड और अमेज़न प्राइम वीडियो को नोटिस जारी किये। याचिका में कहा गया है कि वेब सीरीज में उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले की गलत छवि दिखायी गयी है।

मिर्जापुर का सांस्कृतिक मूल्य काफी समृद्ध है, लेकिन 2018 में एक्सेल एंटरटेनमेंट ने नौ एपिसोड के मिर्जापुर नाम से एक वेब सीरीज लॉन्च की। जिसमें उन्होंने मिर्जापुर को अवैध गतिविधियों वाला शहर दिखाया है। इससे जिले की छवि खराब हो रही है। कोर्ट ने ओटीटी प्लेटफॉर्म और वेब सीरीज निर्माताओं से जवाब मांगा है।

याचिका में कहा गया है कि यह मिर्जापुर की लगभग 30 लाख आबादी और समृद्ध संस्कृति का अपमान है। सरकार को किसी शहर के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक मूल्यों के खराब चित्रण पर रोक लगाने के लिए कुछ दिशानिर्देश बनाने चाहिए। मिर्जापुर एक ऐसी जगह है जहां गंगा नदी विंध्य रेंज से मिलती है।
इससे पहले मिर्जापुर जिले में वेब सीरीज के निर्माता और ‘अमेजन प्राइम’ के खिलाफ मामला दर्ज किया जा चुका है। कोतवाली पुलिस स्टेशन में अरविंद चतुर्वेदी नाम के शख्स द्वारा मामला दर्ज कराया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.