नई दिल्ली. पूरे कोरोना काल में सिर्फ ट्विटर पर सक्रिय रही मायावती ने दलितों और पिछड़ों को लुभाने की कोशिश करते हुए कहा कि पार्टी सत्ता की मास्टर चाबी हासिल करने में यकीन रखती है। इसी के जरिये दलित,पिछड़ों के उत्थान का अम्बेडकर का मिशन जारी रखा जा सकता है।

डा अम्बेडकर की पुण्यतिथि पर नई दिल्ली में अपने निवास पर बाबा साहेब डा. अम्बेडकर की तस्वीर पर पुष्पांजलि कार्यक्रम में मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में चार बार बनी बसपा सरकार ने डा. अम्बेडकर स्मृति को चिरस्थायी बनाने के लिए आगरा विश्वविद्यालय का नामकरण बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर किया। इसी विश्वविद्यालय में अम्बेडकर पीठ भी स्थापित की गई।

उनके नाम पर अलीगढ़ और आगरा में अनुसूचित जाति/जनजाति कोचिंग सेन्टर की स्थापना की गयी। फै़ज़ाबाद मण्डल में अम्बेडकरनगर के नाम से नये ज़िले का गठन किया गया। वाराणसी में बाबा साहेब स्टेडियम का नामकरण तथा रामपुर में संग्रहालय व पुस्तकालय की स्थापना की गयी।

बांदा में बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर मेडिकल कालेज, नोएडा तथा गे्रटर नोएडा में डा. भीमराव अम्बेडकर मल्टी सुपर स्पेशियल्टी अस्पताल आदि स्थापित कराए। कानपुर में डाॅ. अम्बेडकर इन्स्टीट्यूट आफ टेक्नाॅलाॅजी फार हैण्डीकैप्ड तथा आज़मगढ़ में डा. अम्बेडकर भवन का निर्माण कराया। मैनपुरी तथा क़न्नौज में डा. भीमराव अम्बेडकर राजकीय महाविद्यालय की स्थापना की। लखनऊ में डा. भीमराव अम्बेडकर अन्तर्राष्ट्रीय खेल स्टेडियम तथा ग्रेटर नोएडा में 500 सीटों वाले डा. अम्बेडकर अनुसूचित जाति/जनजाति छात्रावास का निर्माण कराया। आगरा एवं गौतम बुद्धनगर में डा.अम्बेडकर पार्क स्थापित किया।

लखनऊ में डा. अम्बेडकर पर्यावरण म्यूज़ियम तथा डाॅ. अम्बेडकर पर्यावरण परिसर का निर्माण कराया। भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय लखनऊ में अम्बेडकर पीठ की स्थापना की। लखनऊ में गोमती तट पर विश्व-स्तरीय डा.भीमराव अम्बेडकर सामाजिक परिवर्तन स्थल स्थापित किया।

Leave a comment

Your email address will not be published.