हजारों सालों से इंसान अंतरिक्ष के रहस्यों को सुलझाने की कोशिश में जुटा हुआ है लेकिन वह उसके सौंवे हिस्से के रहस्यों तक भी अभी तक नहीं पहुंच पाया है. हालांकि उसने अंतरिक्ष में मूव करने वाले ग्रहों और उपग्रहों की अच्छी खासी जानकारी हासिल कर ली है और इसी के चलते वह आकाश में होने वाली विभिन्न प्रकार की गति​विधियों को ट्रेक करता रहता है. ऐसी ही एक गतिविधि 7 दिसम्बर 2022 को आकाश में होगी. इस खगो​लीय घटना में पूर्णिमा का पूरा चांद
मंगल, पृथ्वी और सूरज के साथ एक सीध में आ जाएगा. खगोल विज्ञानी Moon, Mars, Earth और Sun के एक साथ सीध में आने की इस घटना को अनोखी Space activity बता रहे हैं.

खगोल विज्ञानियों के अनुसार 7 दिसंबर को चंद्रमा, मंगल, पृथ्वी और सूरज एक सीधी लाइन में होंगे और इन्हें नंगी आंखों से देखा जा सकता है. पूर्णिमा की इस रात को धरती के पीछे सूरज होगा. उसके पीछे चांद और चांद के पीछे मंगल ग्रह होगा! ये चारों एक सीधी रेखा में कई घंटों तक दिखेंगे और इसे धरती से भारत सहित पूरी दुनिया के लोग नंगी आंखों से देख सकेंगेे.

बता दें कि जब कोई तारा, ग्रह और उपग्रह अंतरिक्ष में सीधी लाइन में आएंगे. इनमें से सूरज तारा है. पृथ्वी व मंगल ग्रह हैं. चंद्रमा पृथ्वी के चक्कर लगाने वाला उपग्रह है. चारों के एक सीध में आने पर आकाश में खूबसूरत रोशनियां का जाल दिखेगा. बाद में मंगल चांद के पीछे जा छिपेगा. पूर्णिमा होने के कारण चांद और मंगल का मिलन साफ तौर पर दिखेगा.

रंगीन दिखेगा मंगल ग्रह

जब यह अद्भुत नज़ारा घट रहा होगा उस वक्त भारत में सुबह हो चुकी होगी. अर्थात इंडिया में 8 तारीख शुरू हो चुकी होगी. अमेरिकन इस अनूठे नज़ारे को रात 11 बजकर 8 मिनट पर देख पाएंगे. भारत में मंगल और चंद्रमा एक दूसरे के बेहद पास दिखेंगे. भारत में सुबह हो जाने की वजह से मंगल पर सूरज की रोशनी पड़ने से वह चमकदार नारंगी-पीले रंग में लिपटा दिखेगा.

Leave a comment

Your email address will not be published.