नई दिल्ली. नया साल दस्तक दे चुका है, इसके साथ ही देश में कुछ नियमों में बदलाव भी लागू हो चुके हैं। इन बदलावों का बड़ी आबादी पर प्रभाव पड़ेगा।

नए साल की शुरूआत होने के साथ ही चेक से पेमेंट के तरीक़े बदल गए हैं। आरबीआई ने इसे पॉज़िटिव पेमेंट सिस्टम नाम दिया है। नए सिस्टम में 50 हजार रुपये से ज़्यादा के चेक की ज़रूरी जानकारियां इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से नाम, चेक की तारीख़ और पेमेंट की रक़म जैसी जानकारियां कन्फर्म करानी होंगी। ये जानकारी मोबाइल ऐप, एसएमएस, इंटरनेट बैंकिंग या एटीएम से देनी होगी। नए सिस्टम की घोषणा रिजर्व बैंक ने अगस्त 2020 में की थी।

आज से ही लैंडलाइन से मोबाइल फ़ोन पर कॉल करने के तरीक़े भी चेंज हो गए हैं। अब लैंडलाइन के ज़रिए किसी के मोबाइल फ़ोन पर कॉल करने के लिए मोबाइल नंबर से पहले ज़ीरो लगाना होगा। अभी तक एसटीडी कॉल करने के लिए नंबर के आगे ज़ीरो लगाना होता था। लेकिन अब लैंडलाइन से लोकल कॉल करने के लिए भी ज़ीरो लगाना होगा।

डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के मक़सद से 1 जनवरी से कॉन्टैक्टलेस कार्ड ट्रांज़ैक्शन की सीमा 2000 रुपये से बढ़कर 5000 रुपये कर दी गई है। कॉन्टैक्टलेस डेबिट या क्रेडिट कार्ड में नेशनल कॉमन मोबेलिटी कार्ड फ़ीचर होते हैं। इससे ट्रांज़ैक्शन के लिए कार्ड स्वाइप की अपेक्षा पीओएस के पास इसे सटाने से लेनदेन पूरा हो जाता है।

इसी तरह छोटे कारोबारियों विशेषकर 5 करोड़ रुपये तक के टर्नओवर वाले कारोबारियों को चार जीएसटी सेल्स रिटर्न भरने होंगे अभी तक कारोबारियों को 12 तरह के सेल्स रिटर्न भरने होते थे।

Leave a comment

Your email address will not be published.