नई दिल्ली. नौकरियों में हरियाणा के युवाओं को 75 फीसदी आरक्षण से अन्य राज्यों के युवाओं के अवसरों पर होने वाले कुठाराघात ने विपक्षी राजनीतिक दलों को जगा दिया है। कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने आरोप लगाया कि हरियाणा में निजी क्षेत्र की नौकरियों में राज्य के युवाओं के लिए 75 फीसदी आरक्षण के प्रावधान संबंधी विधेयक पारित किया जाना उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों के युवाओं के हितों पर डाका डालने का प्रयास है।

प्रसाद ने ट्वीट किया, निजी नौकरियों में 75 फीसदी हरियाणा के युवाओं को आरक्षण देने का विधेयक पारित कर उत्तर प्रदेश, बिहार, बंगाल जैसे प्रदेशों के युवाओं के हितों पर डाका डालने का कुत्सित प्रयास है। इन प्रदेशों के युवाओं को लेबर की परिधि में लाकर छोड़ देना यह इन प्रदेशों के युवाओं का अपमान है!

याद रहे कि हरियाणा विधानसभा ने एक विधेयक को मंजूरी प्रदान कर दी जिसमें निजी क्षेत्र की नौकरियों में राज्य के युवाओं के लिए 75 प्रतिशत आरक्षण के प्रावधान किए गए हैं। हरियाणा राज्य स्थानीय उम्मीदवारों को रोजगार विधेयक, 2020 में निजी क्षेत्र की ऐसी नौकरियों में स्थानीय लोगों के लिए 75 प्रतिशत आरक्षण प्रदान करता है जिनमें वेतन प्रति माह 50,000 रुपये से कम है

Leave a comment

Your email address will not be published.