नई दिल्ली. सरकार की ओर से किसानों को भड़काने के लगातार लगाए जा रहे आरोपों के बीच विपक्षी दल 8 दिसम्बर के भारत बंद के समर्थन में खुलकर आ गए हैं। इस बीच कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली की सीमाओं पर 26 नवंबर से डटे हजारों किसान प्रतिनिधियों ने कहा है कि आठ दिसंबर को पूरी ताकत के साथ भारत बंद किया जाएगा।

भारत बंद का कांग्रेस ने रविवार को पूरा समर्थन किया है। उसने घोषणा की है कि इस दिन वह किसानों की मांगों के समर्थन में सभी जिला एवं राज्य मुख्यालयों में प्रदर्शन करेगी। इसके अलावा आम आदमी पार्टी, टीआरएस समेत पार्टियों ने समर्थन देने का ऐलान किया है। कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने भारत बंद को पार्टी की ओर से समर्थन देने का ऐलान किया। कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा ने मीडिया से कहा कि कांग्रेस आठ दिसंबर को होने वाले भारत बंद को पूरा समर्थन देती है। सभी जिला मुख्यालय एवं प्रदेश मुख्यालयों पर कार्यकर्ता इस बंद में हिस्सा लेकर प्रदर्शन करेंगे।

पूरा विश्व देख रहा है भयावह मंजर

खेडा ने कहा कि सारी दुनिया किसानों की दयनीय अवस्था देख रही है। पूरा विश्व यह भयावह मंजर देख रहा है कि किसान जाड़े की रातों में राजधानी के बाहर बैठे इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि सरकार उनकी बात सुन ले। प्रवक्ता ने पूछा कि सरकार को कानूनों को लागू करने की इतनी जल्दी क्या थी! उन्होंने आरोप लगाया कि महामारी के बीच सरकार चोरी छिपे अध्यादेश ले आई। इतनी जल्दी किस बात की थी। जब पूरे देश का ध्यान कोविड-19 के आर्थिक, सामाजिक और स्वास्थ्य संबंधी प्रभावों पर था तब सरकार अपने उद्योगपति-कॉर्पोरेट मित्रों की मदद करने के लिए चोरी-छिपे अध्यादेश लाने में व्यस्त थी।

किसान हितों की आड़ में छिप रही है सरकार

सरकार ने किसानों को भरोसे में नहीं लिया और अब किसानों के हितों की आड़ में छिप रही है। जो कुछ भी आज देखने को मिल रहा है वह सरकार और उसके कॉर्पोरेट मित्रों के बीच की साजिश का नतीजा है जिसमें पीड़ित किसान ही होगा और किसान इस बात को जानता है। दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सीएम केजरीवाल ने सभी पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से किसानों के 8 दिसंबर को भारत बंद को सपोर्ट करने को कहा है। तेलंगाना के सीएम और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के अध्यक्ष के. चंद्रशेखर राव ने कहा कि पार्टी के नेता और कार्यकर्ता इसमें सक्रियता से शामिल होकर बंद को सफल कराएंगे। कई अन्य विपक्षी पार्टियों ने भी भारत बंद को समर्थन दिया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.