नई दिल्ली. तंत्र मंत्र का झांसा देकर एक ज्योतिषी ने एक रिटायर्ड जज से करीब साढ़े आठ करोड़ रुपए ठग लिए। ज्योतिषी ने जज को ऊंची कुर्सी दिलाने का झांसा दिया था। पुलिस ने ठगी करने वाले की पहचान 52 साल के युवराज रामदास के रूप में की है। वह पुराना ठग है और पिछले महीने गिरफ्तार भी हुआ था।

पुलिस के अनुसार आरोपी ने दावा किया था कि वह टॉप राजनेताओं तक पहुंच रखता है और पीड़ित को ऊंची कुर्सी दिलवा सकता है। उसने रिटायर्ड जज को चिकनी-चुपड़ी बातों में फंसाया और उनसे 8.27 करोड़ रुपए ठग लिए। कर्नाटक के इस मामले में बेंगलुरू पुलिस की क्राइम ब्रांच ने आरोपी को धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तारी विल्सन गार्डन पुलिस थाने में दी गई पूर्व जज की शिकायत के बाद की गई। आरोप है कि युवराज ने जून 2018 और नवंबर 2019 के बीच प्रशासनिक व्यवस्था में ऊंचा पद दिलाने का झांसा देकर उनसे 8.27 करोड़ रुपए ठग लिए।

बैंगलूरू के ज्वॉइंट पुलिस कमिश्नर के अनुसार युवराज झूठा दावा कर लोगों को फुसलाता था कि वह बड़े, नामी और महत्वपूर्ण लोगों को जानता है। वह लोगों को झांसा दिया करता था कि अपने संपर्कों के आधार पर वह सरकारी नौकरियां और अहम काम करा सकता है। सेंट्रल क्राइम ब्रांच आरोपी का सर्च वॉरंट लेकर उसके घर पर रेड मारने पहुंची। तलाशी के दौरान 26 लाख रुपए कैश और आरोपी के नाम पर कुछ चेक मिले, जो कि 91 करोड़ रुपए के आसपास के हैं। इन सब को सीज कर लिया गया है।

रिटायर्ड जज ने बताया कि युवराज ने उन्हें अपना नाम स्वामी बताया था। मुलाकात 2017-18 में एक रिटायर्ड एसपी के जरिए हुई थी, जिसे वह साल 2000 से जानती थीं। 52 साल के रामदास का धोखाधड़ी और ठगी में पुराना इतिहास रहा है। पिछले महीने भी उसे गिरफ्तार किया गया था।

Leave a comment

Your email address will not be published.