नई दिल्ली. केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ उठने वाली हर आवाज को देशद्रोही साबित कर ठंडा कर देने वाला भाजपा का आईटी सैल किसानों से दो-दो हाथ नहीं कर पा रहा है। वह जैसे ही उन्हें खालिस्तानी, विपक्ष समर्थक, नकली किसान, देशद्रोही, पाकिस्तानी समर्थक विशेषणों से नवाजता है, वैसे ही अनपढ़ माने जाने वाले किसानों का आईटी सैल जवाबी हमले शुरू कर, उनके हैशटैग तथा अभियान की हवा निकाल देता है।

किसानों का आईटी सैल, चौंकिए मत, ये सच्चाई है। दिल्ली को लगभग एक माह से घेरे बैठे किसान नेताओं के बीच ऐसे युवाओं की एक टीम है, जिसने भाजपा आईटी सैल को पानी पिला दिया है। वे फेसबुक से लेकर स्नैपचैट तक हर उस सोशल मीडिया पर मौजूद हैं, जहां भाजपा के आईटी सैल की टीम बेहद मजबूत मानी जाती है।

असल में तीन विवादास्पद किसान कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करने वाली 37 किसान यूनियंस के प्रमुख नेता परेशान थे कि टीवी चैनल, सोशल मीडिया और वॉट्सऐप पर कहानियां गढ़कर किसानों और प्रदर्शन को बदनाम करने के साथ ही उन्हें देशद्रोही और खालिस्तानी बताया जा रहा है।

उनकी इस समस्या को हल किया, उनके बीच प्रदर्शन करने आए उनके ही तकनीकी शिक्षा प्राप्त बच्चों ने। उन्होंने दिल्ली की अलग-अलग सीमाओं पर प्रदर्शन करने वाले किसानों का ऑफिशियल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म किसान एकता मंच के नाम से बनाया और उसे कुछ ही दिनों में विरोधी प्रचार करने वाले मेन स्ट्रीम मीडिया के साथ ही भाजपा आईटी सैल के मुकाबले में खड़ा कर दिया। उनका एक सिंपल एजेंडा है कि किसानों का संदेश आसानी से किसानों के साथ ही देश तक पहुंचाना और मेनस्ट्रीम मीडिया की फैलाई अफवाहों, गलत खबरों और सरकार के प्रोपोगंडा मशीनरी को जवाब देना।

किसान एकता मंच ने 16 दिसंबर को फेसबुक पेज शुरू करने के साथ ही यूट्यूब चैनल, इंस्टाग्राम, ट्विटर और स्नैपचैट एकाउंट शुरू कर दिए। मंच की आईटी टीम के मुखिया आशुतोष है। उनकी टीम में एक 16 साल का ऐसा किशोर भी है जो स्नैपचैट का धुरंधर है और किसानों के प्रोटेस्ट की स्टोरी अपलोड करता रहता है। नतीजा, एक हफ्ते में किसान एकता मंच के यूट्यूब चैनल के 10.9 लाख, फेसबुक के 2,39,000 और इंस्टाग्राम के 1,29,000 फॉलोअर्स हो चुके हैं।

मंच की टीम के पांच मेंबर्स में दो पंजाब के, दो हरियाणा के और एक राजस्थान का है। मंच सरकार की खतरनाक आईटी मशीनरी का सामना करने के साथ ही घिनौनी बात करने वाले भाजपा नेताओं को हाथोंहाथ जवाब देता है। एकता मंच मोदी के भाषणों का जवाब भी मजेदार अंदाज में दे रहा है। वह ट्रॉली पर शूट करता है और मोदी के भाषण के साथ ही अपने नेताओं के वीडियो लाइव चलाता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.