धरना दे रहे किसानों का नवाचार

नई दिल्ली. भारत के किसानों की कई खूबियां हैं। इनमें से एक थोड़ी सी जमीन पर भी अपने खाने लायक खाद्यान्न उपजाने की है। पिछले एक माह से अधिक समय से दिल्ली के बुराडी स्थित निरंकारी मैदान में धरना दे रहे किसानों ने ऐसा ही एक नवाचार कर लिया है। वे अब सुबह नारे लगाते हैं और उसके बाद उसी मैदान के एक हिस्से में उगाए गए प्याज से सब्जियों में तड़का लगाकर लंच करते हैं।

केंद्र के 3 कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे किसानों का कहना है कि वे फसल उगाने के लिए बुराड़ी में निरंकारी समागम मैदान का उपयोग कर रहे हैं। एक प्रदर्शनकारी किसान का कहना है कि हम एक महीने से निरंकारी मैदान में बेकार बैठे हैं। इसलिए हमने अपने दैनिक खाने को पकाने के लिए बुराड़ी मैदान में प्याज उगा लिए हैं। प्रदर्शन लम्बा खिंचने की सम्भावना को देख किसानों ने फैसला किया है कि वे और अधिक फसल निरंकारी मैदान में उगाएंगे।

उधर भाकियू ने फिर से किसानों के दिल्ली कूच का ऐलान किया हैं। भाकियू (टिकैत) के चौ. विनय कुमार ने किसानों के दिल्ली कूच का आह्वान किया हैं। विनय कुमार का कहना है कि जो किसान दिल्ली से वापस घरों को आ गए हैं वे फिर से प्रदर्शन के लिए दिल्ली कूच करेंगे। उन्होंने बताया कि किसान विरोधी काले कृषि कानूनों के वापस होने तक आंदोलन जारी रहेगा। भाकियू अंखड के युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज चौधरी ने किसानों से पीएम की मन की बात के दौरान ताली-थाली बजाने का आह्वान किया है।

इस बीच किसान आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान संगठनों में से एक भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत को जान से मारने की धमकी मिली है। राकेश टिकैत ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि उनको बिहार से एक फोन आया था। फोन करने वाले ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी। उन्होंने फोन कॉल की रिकॉर्डिंग पुलिस अधीक्षक को दे दी है।

Leave a comment

Your email address will not be published.