नई दिल्ली. तीन कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसान नौंवे दिन भी राष्ट्रीय राजधानी से लगी सीमाओं पर डटे रहे। इस बीच उत्तर प्रदेश के प्रदर्शनकारी किसानों ने यूपी गेट के पास राष्ट्रीय राजमार्ग-9 को जाम कर दिया है। पंजाब और हरियाणा के किसान दिल्ली आने वाले दूसरे प्रवेश मार्गों पर डटे हैं।
प्रदर्शन शुक्रवार को नौवें दिन भी जारी रहने से सिंघु, टिकरी, चिल्ला और गाजीपुर बॉर्डर पर सुरक्षा कर्मी तैनात हैं। दिल्ली पुलिस ने शहर में आवाजाही के लिए लोगों को अन्य वैकल्पिक मार्गों का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया है। दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट कर लोगों को सिंघु, लम्पुर, औचंदी, साफियाबाद, पियाओ मनियारी और सबोली बॉर्डर बंद होने की जानकारी दी। राष्ट्रीय राजमार्ग-44 दोनों ओर से बंद है। उसने लोगों से राष्ट्रीय राजमार्ग-8, भोपुरा, अप्सरा बॉर्डर और पेरिफेरल एक्सप्रेसवे से होकर दूसरे मार्गों से जाने को कहा है।

दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट किया कि मुकरबा चौक और जीटीके रोड पर मार्ग परिवर्तित किया गया है। बाहरी रिंग रोड, जीटीके रोड, एनएच-44 पर जाने से बचें। टिकरी और झाड़ोदा बॉर्डर हर तरह के यातायात के लिए बंद है। बडोसराय बॉर्डर केवल कार और दो-पहिया जैसे हल्के वाहनों के लिए खुला है। झटीकरा बॉर्डर केवल दो-पहिया वाहनों के लिए खुला है। हरियाणा जाने के लिए ढांसा, दौराला, कापसहेड़ा, रजोकरी एनएच-8, बिजवासन/ बजघेड़ा, पालम विहार और डूंडाहेड़ा बॉर्डर खुले हैं।

गौतमबुद्ध द्वार के पास किसानों के प्रदर्शन के कारण ‘नोएडा लिंक रोड’ पर चिल्ला बॉर्डर बंद है। लोगों को दिल्ली जाने के लिए नोएडा लिंक रोड से बचने और डीएनडी का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया जाता है। प्रदर्शन के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग-24 पर गाजीपुर बॉर्डर बंद होने के कारण पुलिस ने गाजियाबाद से दिल्ली आ रहे लोगों से अप्सरा या भोपुरा बॉर्डर या दिल्ली-नोएडा डायरेक्ट (डीएनडी) एक्सप्रेसवे का इस्तेमाल करने को कहा है। प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कृषि कानून को वापस ना लिए जाने पर दिल्ली आ रहे मार्गों को भी जाम करने की चेतावनी दी थी।

Leave a comment

Your email address will not be published.