चहचहाया राहुल गांधी का ट्विटर हैंडल

नई दिल्ली. पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 1971 के युद्ध में पाकिस्तान के खिलाफ भारत की जीत की 50वीं वर्षगांठ पर कहा कि उस समय पड़ोसी देश भारतीय प्रधानमंत्री का लोहा मानते थे और भारत की सीमा का उल्लंघन करने से डरते थे।उस युद्ध के समय भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी थीं।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि सन् 71 में भारत की पाकिस्तान पर ऐतिहासिक जीत के उत्सव पर देशवासियों को शुभकामनाएं और सेना के शौर्य को नमन। ये उस समय की बात है जब पड़ोसी देश भारत के प्रधानमंत्री का लोहा मानते थे और हमारे देश की सीमा का उल्लंघन करने से डरते थे! उल्लेखनीय है कि 16 दिसंबर भारत में विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी दिन पाकिस्तान के खिलाफ 1971 में भारत को जीत मिली थी, जिसके फलस्वरूप एक देश के रूप में बांग्लादेश अस्तित्व में आया था।

उधर कांग्रेस ने सरकार के संसद का शीतकालीन सत्र नहीं बुलाने को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए इसे लोकतंत्र की हत्या बताया है और कहा है कि जनता से जुड़े विपक्ष के सवालों से बचने के लिए उसने सोचसमझ कर यह निर्णय लिया है। कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने संवाददाताओं के सवाल पर कहा कि जब देश में स्कूल कॉलेज खुल सकते हैं, रेस्टोरेंट एवं बार खुल सकते है, सभी आर्थिक गतिविधियां शुरू की जा सकती है, प्रधानमंत्री और गृहमंत्री की रैलियां हो सकती है तो फिर संसद सत्र को क्यों नहीं बुलाया जा सकता है।

संसद सत्र चलता तो सरकार को विपक्ष के कड़े सवालों का सामना करना पड़ता इसलिए उसने कोरोना महामारी का बहाना लेकर संसद का शीतकालीन सत्र आयोजित नहीं करने का निर्णय लिया है। प्रवक्ता ने सरकार पर किसानों की अवहेलना करने का आरोप लगाते हुए कहा कि देश का किसान 21 दिनों से आंदोलन कर रहा है लेकिन सरकार के पास उनकी समस्या सुनने का समय नहीं है। सरकार में बैठे लोग उन पर अनाप-शनाप आरोप लगा रहे हैं और उनकी समस्या का समाधान करने की बजाय उन्हें बदनाम करने का प्रयास कर रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.