16 जनवरी से होगी देश में कोरोना टीका लगाने की शुरूआत

नई दिल्ली. अग्रिम दस्ते की स्वास्थ्य सेना व फ्रंटलाइन वर्कर्स के अलावा देश के उन 27 करोड़ लोगों को कोरोना टीका प्राथमिकता से लगाया जाएगा जिनकी आयु पचास साल से अधिक है। इसके अलावा गम्भीर बीमारियों से ग्रस्त पचास साल से कम उम्र के भारतवासियों को भी वरीयता देकर टीका लगाया जाएगा। अभियान के लिए सरकार ने एक डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म भी लांच किया है। प्लेटफार्म टीका आपूर्ति प्रबंधन प्रणाली के साथ ही टीके के भंडार, भंडारण तापमान, लाभार्थियों की जानकारी देगा। ये स्वतः सत्र आवंटित करने, सत्यापन और टीकाकरण के बाद व्यक्तियों को प्रमाणपत्र प्रदान करने में भी मदद करेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कोविड-19 स्थिति की समीक्षा बैठक के बाद घोषणा की गई कि टीकाकरण (वैक्सीनेशन) अभियान 16 जनवरी से शुरू होगा। टीकाकरण अभियान में तीन करोड़ स्वास्थ्य कर्मियों एवं अग्रिम मोर्चे पर कार्यरत कर्मियों को सबसे पहले टीका लगाया जाएगा।

सरकार ने कहा है कि स्वास्थ्य कर्मियों और कोविड-19 के खिलाफ अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मियों के बाद 50 वर्ष से अधिक आयु के करीब 27 करोड़ व्यक्तियों और अन्य बीमारियों से ग्रसित 50 वर्ष से कम आयु के व्यक्तियों का टीकाकरण पहले चरण में ही किया जाएगा।

प्रधानमंत्री ने कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों की तैयारियों पर एक उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की। इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र से सभी लोगों को कोविड-19 का टीका मुफ्त लगाने की अपील की। केजरीवाल ने ट्वीट किया कि कोरोना वायरस सदी की सबसे बड़ी महामारी है। अपने लोगों को इस से सुरक्षित करना बेहद ज़रूरी है।

मेरा केंद्र सरकार से निवेदन है कि कोरोना की वैक्सीन सभी देशवासियों को मुफ़्त लगवायी जाए। इस पर होने वाला खर्च ढेरों भारतीयों की जान बचाने में सहायक होगा। उल्लेखनीय है कि दिल्ली सरकार पहले ही घोषणा कर चुकी है कि कोरोनावायरस टीका राष्ट्रीय राजधानी में मुफ्त लगाया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.