नई दिल्ली. दिल्ली में पारा न्यूनतम तापमान 3.2 डिग्री तक लुढ़क जाने से देश की राजधानी शीतलहर से कंपकंपा रही है। मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार बर्फ से ढके पश्चिमी हिमालय से मैदानी इलाकों की ओर आ रही हवा शीत लहर की वाहक है। कुछ इलाकों में घना कोहरा छाने से दृश्यता 50 मीटर ही रह गई।

मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार सफदरजंग वेधशाला ने शीत लहर को मापा है। उसने न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री कम 3.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया। मैदानी इलाकों में तापमान के चार डिग्री सेल्सियस पर पहुंचने पर शीत लहर मानी जाती है। न्यूनतम तापमान के दो डिग्री सेल्सियस या उससे कम दर्ज किए जाने पर तीव्र शीत लहर कहा जाता है।

मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी हिमालय से मैदानी इलाकों में आ रही ठंडी एवं शुष्क उत्तरी/उत्तर पश्चिमी हवाओं के कारण उत्तर भारत में न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। अगले दो दिन तक दिल्ली में ऐसी ही स्थिति बनी रहेगी। घने कोहरे के कारण पालम में दृश्यता 50 मीटर और सफदरजंग में 200 मीटर दर्ज की गई। शून्य से 50 मीटर के बीच दृश्यता होने पर कोहरा बेहद घना, 51 से 200 मीटर के बीच घना, 201 से 500 के मीटर के बीच मध्यम और 501 से 1000 के बीच दृश्यता होने पर कोहरे को हल्का माना जाता है।

बर्फ से ढके पश्चिमी हिमालय से उत्तरी-पश्चिमी सर्द हवाओं के शनिवार से मैदानी इलाकों की ओर आने के साथ ही न्यूनतम तापमान में गिरावट आनी शुरू हो गई है। इससे पहले दिल्ली में मंगलवार को न्यूनूतम तापमान 4.8 डिग्री सेल्सियस, सोमवार को सात डिग्री सेल्सियस और रविवार को 7.8 डिग्री सेल्सियस रहा। शनिवार को न्यूनतम तापमान 10.8 डिग्री सेल्सियस, शुक्रवार को 9.6 डिग्री सेल्सियस और बृहस्पतिवार को 14.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, जो पिछले चार साल में जनवरी का सबसे अधिक तापमान है।

Leave a comment

Your email address will not be published.