सुभाष राज

नई दिल्ली. आप स्वयं और परिवार के लिए जिन प्रोडक्ट का इस्तेमाल ये कहते हुए करते हैं कि ये बहुराष्ट्रीय कंपनियां हैं और कठोर क्वालिटी कंट्रोल करती हैं तो फिर आप बहुत बड़े भ्रम का शिकार हैं. क्योंकि अनेक बहुराष्ट्रीय निगमों के प्रोडक्ट में जहरीले तत्व अधिक पाए जाने पर विभिन्न देशों की सरकारों ने बाजार से वापस तक करवाया है.

ऐसी ही दुनिया की नम्बर वन फार्मा कंपनी जॉन्सन एंड जॉन्सन्स के बेबी टेल्कम पाउडर में एस्बेस्टस और कैंसर पैदा करने वाली चीजें होने की शिकायत के चलते कंपनी दुनिया के अनेक देशों में मुकदमों का सामना कर रही है. जुलाई 2021 में जॉन्सन एंड जॉन्सन्स को अपने सनस्क्रीन प्रोडक्ट को बाजारों से वापस लेना पड़ा था.

मेलिगनेंट मेलानोमा नामक कैंसर होने का प्रमाण
इन प्रोडक्ट का नाम न्यूट्रोजीना और अवीनो है. कई स्टडीज में बेंजीन के संपर्क में आने से इंसानों में मेलिगनेंट मेलानोमा नामक कैंसर होने का प्रमाण पाया गया. इसके अलावा पेट, प्रोस्टेट और नाक में कैंसर के मामले भी सामने आए हैं. इसी बेंजीन की तयशुदा से ज्यादा मात्रा इन कंपनियों के प्रोडक्ट्स में पाई गई.

क्या होता है बेंजीन
यह C6H6 आणविक फॉर्मूला वाला ऑर्गेनिक रसायन है. कार्बन के छह और हाइड्रोजन के छह परमाणु ऑर्गेनिक बंध से जुड़े होते हैं. प्राकृतिक रूप से बेंजीन ज्वालामुखियों और जंगल की आग से निकलता है. कच्चे तेल और गैसोलीन में भी ये रसायन होता है.

इस केमिकल का उद्योग धंधों में खूब इस्तेमाल होता है. यह प्लास्टिक, सिंथेटिक फाइबर, डाई, डिटरजेंट, पेस्टिसाइड और दवाएं बनाने में काम आती है. बेंजीन काफी जहरीला होता है. इसके जहर से फौरन मौत हो सकती है. इसके भारी डोज का असल तीन दिन बाद दिखता है. ज्यादातर मामलों में बेंजीन सांस के रास्ते आता है. दूसरा त्वचा के रास्ते शरीर के अंदर पहुंचता है. इससे ल्यूकिमिया और ब्लड कैंसर भी होता है.

Leave a comment

Your email address will not be published.