नई दिल्ली. वह दस बार शादी कर चुका था लेकिन इसके बावजूद निसंतान था। उसकी एक पत्नी को पहले पति से जो बेटा था, वह उसे अपनी सम्पत्ति का वारिस बनाना चाहता था लेकिन इससे पहले ही उसकी हत्या कर दी गई। उत्तरप्रदेश में बरेली क्षेत्र के भोजीपुरा इलाके में दस विवाह रचा चुका 52 वर्षीय किसान जगनलाल यादव खेत में मृत पाया गया। उसके पास विरासत की कुछ करोड़ रुपये की पैतृक संपत्ति थी। वह एक खेत में मृत पाया गया। हत्या उसके ही मफलर से गला घोंटकर की गई थी।

मफलर से दबा दिया था गला

पुलिस के अनुसार तीन दिन पहले हुए हत्या की प्राथमिकी दर्ज की गई है और शव परीक्षण में पुष्टि हुई है कि जगनलाल की गला दबाकर हत्या की गई थी। उसके सिर पर चोट के निशान थे, जिससे पता चलता है कि उनके सिर पर किसी वस्तु से वार किया गया था। सूत्रों के मुताबिक, मृतक जगनलाल याद के बड़े भाई सम्पत्ति को अपने गोद लिए बेटे को देने के उसके फैसले से नाखुश थे।

दो पत्नियों के साथ रह रहा था जगन

जगनलाल ने पहली बार 90 के दशक में शादी की थी। उसकी पांच पत्नियों की कथित तौर पर बीमारी से मौत हो गई थी और तीन अन्य पत्नियों ने उसे छोड़ दिया था। इस समय वह पश्चिम बंगाल की रहने वाली 35 और 40 वर्ष उम्र की दो पत्नियों के साथ रह रहा था। पुलिस ने कहा कि वह उसके वैवाहिक जीवन से अनजान थी।

बार बार शादी के बाद भी नहीं थी औलाद

पुलिस को संदेह है कि उसकी हत्या संपत्ति के लिए की गई है। जगनलाल की एक सम्पत्ति मुख्य सड़क के पास स्थित है और बाजार में उसका अच्छा मूल्य है। स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि वह बार-बार शादी कर रहा था, लेकिन उनकी कोई औलाद नहीं थी। एक युवक उसके साथ रहता है, जो उसकी पत्नी के पहले पति से पैदा हुआ है। जांच के दौरान हमें यह भी पता चला कि जगनलाल के पिता ने कई बार शादी करने के बाद उन्हें अपनी संपत्ति से अलग कर दिया था और पूरी 70 बीघा जमीन का स्वामित्व जगनलाल के बड़े भाई को हस्तांतरित कर दिया था। हालांकि, उनके बड़े भाई ने साल 1999 में पारिवारिक विवाद पर पंचायत के आदेश के मुताबिक जगनलाल को 14 बीघा जमीन वापस दे दी थी। पुलिस ने सभी रिश्तेदारों के बयान दर्ज कर लिए गए हैं और संदिग्धों के बयानों को सत्यापित करने के लिए एक सर्विलांस रिपोर्ट का उपयोग कर रही है। संदिग्धों में रिश्तेदार भी शामिल हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.