जयपुर. कांग्रेस भले ही चुनाव लड़ने के टिकट नहीं दे लेकिन सेवादल कार्यकर्ताओं को सत्ता में हिस्सेदारी के साथ ही उनका सम्मान करे तो सेवादल पार्टी के राजनीतिक वनवास को खत्म कर सकता है।

ये उद्गार सेवादल के एक प्रदेश पदाधिकारी के हैं। उनका कहना है कि इन दिनों भाजपा अपने अल्पसंख्यक मोर्चे के जरिए मुसलमानों के मन में ये बात फिट करने में जुटी है कि कांग्रेस ने सिर्फ उनका यूज किया है। जबकि हकीकत इसके बिल्कुल उलट है। कांग्रेस ने किसी भी वर्ग का यूज नहीं किया बल्कि प्रत्येक वर्ग के विकास के लिए बराबर ध्यान दिया है।

सेवादल पदाधिकारी के अनुसार उत्तरप्रदेश स​मेत अन्य राज्यों में भाजपा के मंत्री ये कहते फिर रहे हैं कि भाजपा ही वह पार्टी है जो हिंदुओं को लव जिहाद से बचा सकती है और प्रमाण के रूप में वे उत्तरप्रदेश के नेता आजम खान को जेल भेजने का उदाहरण देते है। वे कहते हैं कि आज तक आजम पर हाथ डालने की किसी की हिम्मत नहीं हुई जबकि भाजपा ने एक झटके में उन्हें जेल भेज दिया।

उनका कहना है कि सेवादल कार्यकर्ताओं की समाज के प्रत्येक वर्ग में पैठ है लेकिन सत्ता में आते ही कांग्रेस उसे भुला देती है। इसी के चलते सेवादल कार्यकर्ता पूरी तरह निराश है। पार्टी को ये समझना होगा कि सेवादल ही वह मशीन है जो आरएसएस के तंत्र से निपटकर देश को वापस भाईचारे की राह पर ला सकती है।

यहां यह उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी एक से अधिक बार ये कह चुके हैं कि कांग्रेस सेवादल को मजबूत बनाना होगा तभी कांग्रेस आरएसएस और भाजपा का राजनीतिक मुकाबला कर पाएगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.