दिल्ली ब्यूरो

नई दिल्ली. दिल्ली की सड़कों पर बन गए बॉटलनेक को समाप्त करने के लिए उन्हें 100 फीट चौड़ा किया जाएगा और उन्हें यूरोपीय शहरों के समान खूबसूरत बनाया जाएगा। दिल्ली सरकार ने 100 फीट चौड़ी 540 किलोमीटर लंबी सड़कों के सौंदर्यीकरण का फैसला किया है। सड़कों के सौदर्यीकरण का कार्य वर्ष 2023 तक पूरा किया जाना है।

दिल्ली सरकार ने 15 वर्षो तक इन सड़कों का रखरखाव सुनिश्चित करने के लिए निर्माण एजेंसी को जिम्मेदारी दी है। एजेंसी की जिम्मेदारी होगी कि वह सड़कों के विकसित बुनियादी ढांचे को बनाए रखे। कचरा हटाने, सड़कों की धुलाई करने, हरियाली का रखरखाव, फुटपाथ की नियमित पेंटिंग, सड़क के फर्नीचर का रखरखाव और उसकी सुरक्षा करने की जिम्मेदारी एजेंसी की होगी।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीडब्ल्यूडी मंत्री सत्येंद्र जैन और विभागीय अधिकारियों के साथ 100 फीट चौड़ी 540 किलोमीटर लंबी सड़कों के सौदर्यीकरण की समीक्षा के दौरान कहा कि संबंधित अधिकारी सड़कों के सौंदर्यीकरण कार्य में आने वाली सभी बाधाओं को समय रहते दूर करें, ताकि समय सीमा के अंदर कार्य को पूरा किया जा सके।

दिल्ली की सड़कों को रीडिजाइन करके 100 फीट चौड़ी 540 किलोमीटर लंबी सड़कों को यूरोपीयन शहरों की तर्ज पर खूबसूरत बनाया जाएगा। चांदनी चौक की मुख्य सड़क को पायलट प्रोजेक्ट के तहत दोबारा विकसित कराया जा रहा है। सड़कों के रीडीजाइन करने से बाटलनेक खत्म होंगे। अभी कोई सड़क चार लेन से तीन लेन की हो जाती है या छह लेन से चार लेन की हो जाती है। इससे अचानक सड़क पर एक जगह वाहनों का दबाव बढ़ जाता है और जाम की स्थिति पैदा हो जाती है। सड़कों के रीडिजाइन के बाद यह समस्या खत्म हो जाएगी। इससे जाम की समस्या खत्म हो जाएगी।

सड़क किनारे या आस पास की सड़कों का स्पेस खत्म करके उस जगह का अच्छे से इस्तेमाल किया जाएगा। फुटपाथ के साथ ही नान मोटर व्हीकल के लिए जगह बनाई जाएगी। कम से कम 5 फुट के फूटपाथ को बढ़ाकर अधिकतम 10 फुट का किया जाएगा। दिव्यांगों की सुविधा के मुताबिक फुटपाथ को डिजाइन किया जाएगा, ताकि सड़क एक जैसी दिखें और दिव्यांगों को परेशानी न हो। दिल्ली में अभी सड़कों के किनारे हरियाली का दायरा कम है। सड़कों के रीडिजाइन के बाद फुटपाथ पर पेड़ लगाने के लिए जगह होगी और ग्रीन बेल्ट के लिए भी जगह होगी। ऑटो व ई-रिक्शा के लिए अलग से जगह और स्टैंड दिया जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.