आमतौर पर समाज की धारणा है कि फिल्मों में काम करने वाली हीरोइन्स का कोई मॉरल नहीं होता और वे फिल्म के सेट से लेकर वेनिटी वैन्स में हीरोज के साथ इंटीमेट हो जाती हैं. समाज ये मानता है कि सेट पर हीरों की बाहों में समाना, उसको चुम्बन देना, उसके साथ बैडरूम सीन देना जैसे काम करने वाली हीरोइन के चरित्र को कैसे सावित्री जैसा माना जा सकता है !

समाज का ये नजरिया भी है कि इसी वजह से ज्यादातर हीरोइन्स अपना घर फिल्मी हीरो, डायरेक्टर अथवा निर्माता के साथ बसाती हैं ताकि उनके चरित्र पर वे उंगली नहीं उठाएं और वैवाहिक जिंदगी आसानी से चलती रहे. लेकिन अब समाज को अपनी धारणाएं बदलनी होंगी क्योंकि फिल्मों में इंटीमेसी सीन यानी हीरो-हीरोइन के एक दूसरे से चिपकने, चुम्बन करने और आलिंगन के साथ बैडरूम सीन पूरी तरह फेक होते हैं और सीन के दौरान हीरो तथा हीरोइन का शरीर एक-दूसरे को टच तक नहीं करता.

अगर आपको यकीन नहीं है तो फिर आप दीपिका पादुकोण और सिद्धांत के बीच फिल्म गहराइयां का वह बोल्ड सीन पैनी नजरों से देख लें आपको पर्दे पर ही नजर आ जाएगा कि दीपिका और सिद्धांत ने स्किन टोन गारमेंट्स पहन रखे हैं और उन्होंने एक-दूसरे को टच किए बिना वे बोल्ड सीन किए हैं, जिन्हें देखकर दर्शकों ने जमकर सीटियां और तालियां बजाईं.

हाल ही रिलीज ‘गहराइयां’ में दीपिका पादुकोण और सिद्धांत चतुर्वेदी के बीच इंटिमेट सीन शूट से दोनों एक्टर्स को तीन दिन तक एक वर्कशॉप में बताया गया कि वे स्किन टोन गारमेंट्स पहनकर ये सीन करेंगे. दोनों को इंटिमेसी कोऑर्डिनेटर नेहा व्यासो ने सीन के बारे में बताया.

इसके बाद इंटिमेसी डायरेक्टर धार घई ने पूरा सीन डिजाइन किया और सीन को इंटिमेसी कोऑर्डिनेटर आस्था खन्ना कैमरे के सामने शूट करवाया. इस सीन में दोनों एक्टर्स एक—दूसरे के करीब ही नहीं आए और लगभग आधा फिट की दूरी से दोनों ने उस सीन को फिल्माया. पर्दे पर वह सीन बिल्कुल ऐसा लग रहा था कि दीपिका और सिद्धांत ने सीन में वही किया है, जिसे आम जिंदगी में लड़का-लड़की करते हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.