अजमेर. राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने कोरोना काल में ऐसे नवाचार किए हैं जिससे प्रदेश के विद्यार्थियों को मानसिक तनाव से मुक्ति मिल गई है।

बोर्ड अध्यक्ष डॉ. डी.पी. जारोली के अनुसार पाठ्यक्रम में 40 प्रतिशत की कटौती के साथ ही आगामी बोर्ड परीक्षा के लिए विशेष मॉडल प्रश्न पत्रों का निर्माण करवाया है। प्रश्न पत्रों के स्वरूप में भी भारी बदलाव किया गया है ताकि परीक्षार्थी को परीक्षा उत्तीर्ण करने में आसानी रहे। जारोली के अनुसार बोर्ड ने लगभग 1.25 करोड उत्तरपुस्तिकाओं को प्रदेश के दूरदराज क्षेत्रों में बैठे परीक्षकों को भेजा और रिकॉर्ड समय में परीक्षा परिणामों की घोषणा की।

बोर्ड सचिव अरविन्द कुमार सेंगवा के अनुसार बोर्ड ने परीक्षा दस्तावेजों की ऑनलाइन प्रतिलिपि के साथ ही सम्बद्धता आवेदन भी ऑनलाइन लेना शुरू कर दिया है। परीक्षकों से ऑनलाइन परीक्षाओं के प्राप्तांक मंगवाने, लेखा शंकाओं का 24 घण्टे में ऑनलाइन निवारण और विद्यार्थियों के परीक्षा संबंधी दस्तावेजों के लिए डिजीलॉकर की व्यवस्था भी कोरोना काल में की है। लेखा शाखा के ऑनलाइन शंका समाधान निवारण एप पर प्रतिदिन 50 से 70 शिकायत प्राप्त होती है और बोर्ड 24 घण्टे में उनका समाधान देता है।

उधर मंत्रालयिक स्टाफ क्लब अध्यक्ष और कर्मचारी संघ के महामंत्री मोहन सिंह रावत ने बोर्ड कर्मियों और उनके परिजनों को कोविड वैक्सीन प्राथमिकता के आधार पर लगवाने की मांग की है।

Leave a comment

Your email address will not be published.