नई दिल्ली. भाजपा के चुनावी चाणक्य अमित शाह का कहना है कि पश्चिम बंगाल के खोए गौरव को वापस लाने की आवश्यकता है। राज्य में तुष्टिकरण की मौजूदा राजनीति ने राष्ट्र की आध्यात्मिक चेतना को बनाए रखने की सदियों पुरानी परंपरा को चोट पहुंचाई है। वैसे भी पश्चिम बंगाल चैतन्य महाप्रभु, श्री रामकृष्ण और स्वामी विवेकानंद जैसी हस्तियों की भूमि है।

कई दिन के दौरे पर पश्चिम बंगाल पहुंचे केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि यह राज्य पहले पूरे देश में आध्यात्मिक जागृति का केंद्र हुआ करता था। पश्चिम बंगाल की गौरवशाली परंपरा को तुष्टिकरण की राजनीति ने क्षति पहुंचाई है। उन्होंने बंगाल के लोगों से अपील ​की कि वे जागें और राज्य की गरिमा को वापस लाने की जिम्मेदारी निभाएं।

मोदी के नेतृत्व में गौरव बरकरार रखे भारत

भाजपा नेता दक्षिणेश्वर मंदिर भी गए जहां उन्हें सदियों पुराने मंदिर के गर्भ गृह में ले जाया गया। शाह ने देवी की पूजा की। शाह ने कहा, मैंने पूरे राज्य, देश और उसके लोगों के कल्याण की प्रार्थना की। हमने प्रार्थना की कि देश (प्रधानमंत्री) नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दुनिया में अपना गौरवशाली स्थान बरकरार रखे।

राज्य भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष अग्निमित्रा पॉल समेत संगठन के सदस्यों ने शंख बजाकर और शाह के माथे पर तिलक लगाकर उनका अभिनंदन किया। शाह प्रख्यात गायक पंडित अजय चक्रवर्ती के संगीत विद्यालय एवं निवास ‘श्रुतिनंदन’ भी गए, जहां उन्होंने उनके छात्रों एवं परिजनों से मुलाकात की।

Leave a comment

Your email address will not be published.