नई दिल्ली. अमेरिकन वैज्ञानिकों ने पता लगा लिया है कि कोरोना वायरस मानवीय कोशिकाओं में कैसे प्रवेश करके अपने जैसे और वायरस पैदा करता है और दो प्रोटीन की कार्यप्रणाली को बाधित कर देता है।
वैज्ञानिकों के अनुसार सार्स-कोव-2 वायरस कई चरणों में शरीर पर हमला करता है। पहले फेफड़ों में प्रवेश करता है और शरीर के कोशिका तंत्र पर कब्जा कर अपने जैसे कई वायरस पैदा कर देता है। कई मौजूदा रासायनिक यौगिक मानव कोशिकाओं में संक्रमण के लिए आवश्यक लाइजोसोमल प्रोटीज कैथेप्सीन एल प्रोटीन और कोशिकाओं में और वायरस पैदा करने में अहम भूमिका निभाने वाले मुख्य प्रोटीज एप्रो को बाधित कर देते हैं।

वैज्ञानिकों का मानना है कि इन प्रक्रियाओं को रोकने या बहुत हद तक काबू करने में सक्षम यौगिक विकसित करने में कामयाबी मिल जाए तो कोरोना संक्रमण उपचार में मदद मिल सकती है।

विश्व में कोविड-19 के मामले पांच करोड़ के पार

इधर दुनियाभर में कोविड-19 वैश्विक महामारी के मामले पांच करोड़ के पार चले गए हैं। अमेरिकी विश्वविद्यालय जॉन हॉपकिन्स के अनुसार विश्व में कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 5.2 करोड़ के पार चले गए। विश्वभर में वायरस से 12 लाख से अधिक लोगों की मौत भी हो चुकी है। आकंड़ों के अनुसार कोविड-19 से सबसे अधिक प्रभावित अमेरिका में संक्रमण के 98 लाख से अधिक मामले सामने आए हैं और 2,37,000 से अधिक लोगों की इससे मौत हुई है। उधर अमेरिका में कोविड-19 का कहर जारी है।

Leave a comment

Your email address will not be published.