नई दिल्ली. लद्दाख से कश्मीर तक के 434 किलोमीटर लंबे श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर फंसे 286 लद्दाखी यात्रियों को भारतीय वायुसेना ने ​सुरक्षित निकाल कर उनके घरों तक पहुंचाया। राजमार्ग का एक जनवरी से हिमपात और फिसलन के कारण कश्मीर घाटी से संपर्क टूटा हुआ है।

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के बीच फंसे हुए यात्रियों को सी-130, सी-17 और एन-32 विमानों से ले जाया गया। लेह से श्रीनगर जाने वाले 21 यात्रियों, श्रीनगर से कारगिल के 35, कारगिल से श्रीनगर के 19, जम्मू से कारगिल के 21, कारगिल से जम्मू के लिए 70 और लेह से जम्मू जाने वाले 120 यात्रियों को हवाई जहाज से उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया।

राजमार्ग बंद होने पर कारगिल और जम्मू के बीच एन-32 कारगिल कूरियर सेवा सप्ताह में तीन बार और कारगिल से श्रीनगर के बीच सप्ताह में दो बार चलती है। राजमार्ग कारगिल और लेह के बीच है।

हाल में मौसम खराब के कारण कारगिल कूरियर सेवा को रद्द कर दिया गया था और लद्दाख प्रशासन के रक्षा मंत्रालय से आग्रह पर केन्द्र सरकार ने सी-17, सी-130 और एएन-32 विमानों को सेवा पर लगाया है। बुधवार काे कारगिल-श्रीनगर और कारगिल-जम्मू के बीच एएन-32 कारगिल कूरियर की सेवा देने की योजना बनाई गई है। यात्रियों को संबंधित संपर्क अधिकारी से संपर्क करने के लिए कहा गया है।

सात लाख खुराकों के साथ उड़ान

उधर विमानन कंपनी गोएयर के विमान ने मंगलवार को कोरोना वायरस वैक्सीन की सात लाख खुराक पहुंचाने के लिए पुणे से चेन्नई के लिए उड़ान संचालित की। गोएयर के विमान ने सुबह चेन्नई से पुणे के लिए वैक्सीन की 70,800 शीशियों (7,08,000 खुराक) लेकर उड़ान भरी।

गोएयर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कौशिक खोना के अनुसार गोएयर को जीवन रक्षक कोविड-19 टीकों के परिवहन की जिम्मेदारी मिलने से हम अभिभूत हैं। हम आभारी हैं कि हमें वैक्सीन अभियान में योगदान करने का अवसर मिला। गोएयर ने कहा कि कंपनी देश के सभी संभावित हिस्सों तक वैक्सीन पहुंचाने के लिए हर संभव कदम उठा रही है।

पुणे से कोविड-19 की वैक्सीन देश के विभिन्न हिस्सों तक पहुंचाने के तहत पहले दिन स्पाइसजेट की एक उड़ान मंगलवार सुबह 10 बजे दिल्ली पहुंची। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि चार विमानन कंपनियां मंगलवार को पुणे से देश के 13 शहरों तक कोविड-19 वैक्सीन पहुंचाने के लिए नौ उड़ानें संचालित करेंगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.