नई दिल्ली. अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान से पीछा छुड़ा लिया है। उसने अफगानिस्तान में सैनिकों की संख्या कम करके 2,500 कर दी है। ये अब तक की सबसे कम सैनिक संख्या है। इसी के साथ अफगानिस्तान में तैनात अमेरिकी सैनिकों की संख्या 19 साल में सबसे कम हो गई है। पिछले साल फरवरी में अमेरिकी सैनिकों की संख्या कम करने और 2021 तक सैनिकों की पूरी तरह वापसी को लेकर तालिबान से ट्रंप प्रशासन ने समझौता किया था। अभी ये स्पष्ट होना है कि आने वाला बाइडन प्रशासन इस संबंध में आगे क्या फैसला लेगा।

नव-निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन अफगानिस्तान में छोटा आतंकवाद-रोधी बल तैनात रखने की वकालत कर चुके हैं ताकि अल-कायदा जैसे चरमपंथी समूह अमेरिका पर हमले न कर पाएं। सवाल है कि क्या वह अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की संख्या में कटौती की राह पर आगे बढ़ेंगे? इस बीच ट्रंप ने अफगानिस्तान से बाहर निकलने की लंबे समय से चली आ रही इच्छा का जिक्र किया है। उन्होंने अफगानिस्तान में 2001 में शुरू हुई जंग और 2003 से इराक में जारी युद्ध की ओर इशारा करते हुए कहा, ’मैं हमेशा से अंतहीन युद्ध को समाप्त करने को लेकर प्रतिबद्ध रहा हूं। हालांकि वरिष्ठ सैन्य अधिकारी अफगानिस्तान में तेजी से सैनिकों की संख्या कम करने को लेकर ट्रंप को आगाह कर चुके हैं।

कार्यवाहक रक्षा मंत्री क्रिस्टोफर मिलर ने नवंबर 2017 को घोषणा की थी कि वह ट्रंप के आदेश पर अमल कर रहे हैं। इसी की पालना में सैन्य कमांडर बीते कुछ सप्ताह में 1,500 से अधिक सैनिकों को अफगानिस्तान से वापस बुला चुके हैं। आदेश के अनुसार कमांडर इराक में अमेरिकी सैनिकों की संख्या भी 3,000 से कम करके 2,500 कर चुके हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.