नाइजीरियन शैतान बोको हराम की करतूत

नई दिल्ली. बोको हराम का नाम दुनिया के शांतिप्रिय लोगों के दिमाग पर शैतान के रूप में दर्ज है। ये सच्चाई भी है। बोको हराम समेत अनेक ऐसे संगठन नाइजीरिया में बच्चा पैदा करने की फैक्ट्रियां चलाते हैं। वे लड़कियों को अगवा करके बलात्कार करते हैं और फिर उससे पैदा बच्चों को नरबलि, सेक्स और अपराध माफिया के हाथों बेच दिया जाता है।

नाइजीरिया में कई साल से बेबी फैक्ट्रियां चल रही हैं। 2006 में पहली बार यूनेस्को ने ऐसा मामला दर्ज किया था। हर साल दक्षिणी नाइजीरिया में बेबी फैक्ट्रियों के नए मामले सामने आते रहते हैं। 2011 में ऐसी बेबी फैक्ट्रियों से 49 गर्भवतियों को छुड़ाया गया। 2013 और 2015 में भी कुल 13 बेबी फैक्ट्रियां पकड़ी गई।

असल में नाइजीरिया अफ्रीका में मानव तस्करी का स्रोत है। देश के ग्रामीण इलाकों से महिलाओं और बच्चों को फुसलाकर गैबॉन, कैमरून, घाना, चाड, बेनिन, टोगो, नाइजर, बुर्किना फासा और गाम्बिया जैसे देशों में बेच दिया जाता है। देह व्यापार के लिए इटली, रूस और मध्य पूर्व एशिया के देशों तक भी पहुंचाया जाता है। महिलाओं का अपहरण करके बलात्कार किया जाता है और उससे पैदा होने वाले शिशुओं को बेच दिया जाता है।

पुलिस ने दक्षिण पश्चिमी नाइजीरिया के मोवे इलाके में छापेमारी कर छह महिलाओं और चार बच्चों को गैरकानूनी प्रसव केंद्र से छुड़ाया तो पूरी दुनिया यह जानकर दंग रह गई कि वे प्रसव केन्द्र नहीं बल्कि बेबी फैक्ट्रियां थीं। छुड़ाई गई छह महिलाओं में से चार गर्भवती हैं। उन्हें जबरन कैद करके बलात्कार किया गया और फिर उनके नवजात शिशुओं को ब्लैक मार्केट में बेच दिया गया।

बेबी फैक्ट्री में पैदा होने वाले बच्चों को आम तौर पर बाल मजदूरी, सेक्स वर्क या नर बलि के लिए बेचा जाता है। नवजात लड़के को ढाई लाख नाइरा और लड़कियों को दो लाख नाइरा में बेचा जाता है। बेबी फैक्ट्रियां खुद को अनाथालय, मैटरनिटी होम और धार्मिक केंद्रों की तरह पेश करती हैं। बेबी फैक्ट्रियों में बड़ी संख्या में लोग काम करते हैं।

नाइजीरिया में होने वाले इन अपराधों का पता दुनिया को अप्रैल 2014 में तब चला जब आतंकी संगठन बोको हराम ने चिबोक शहर के एक स्कूल से 276 लड़कियों को अगवा कर ज्यादातर लड़कियों से बलात्कार किया गया।

Leave a comment

Your email address will not be published.