अमेरिकन रिपोर्ट में जताया गया अंदेशा

नई दिल्ली. अमेरिका की राष्ट्रीय विज्ञान समिति अकादमी की एक रिपोर्ट में चीन और क्यूबा में अमेरिकी राजनयिक निर्दिष्ट माइक्रोवेव विकिरण के कारण बीमार होने का अंदेशा जताया गया है।

विदेश विभाग के अध्ययन से जुडी ये रिपोर्ट वर्ष 2016 में हवाना में अमेरिकी राजनयिकों के अचानक किसी रहस्यमयी बीमारी की चपेट में आने के मामले का पता लगाने की कड़ी में नया प्रयास है।

अध्ययन में पाया गया कि सिर में भारी दबाव महसूस करना, चक्कर आना और अन्य दिक्कतें निर्दिष्ट, पल्स रेडियो फ्रीक्वेंसी ऊर्जा के कारण हुई हो सकती हैं। रिपोर्ट में ऊर्जा के स्रोत के बारे में नहीं बताया गया है। इसके अलावा यह भी नहीं कहा गया कि यह किसी हमले के बाद पैदा हुई थी। लेकिन यह जरूर कहा गया कि इस प्रकार की बीमारी पर पूर्व में सोवियत संघ में शोध हुए थे। रिपोर्ट में 19 सदस्यीय समिति ने कहा कि इस चिकित्सा रहस्य की तह तक जाने में उन्हें कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ा। प्रभावितों में लक्षण समान नहीं थे और नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज रिसर्च बीमारी पर अतीत में हुए सभी अध्ययनों के नतीजे हासिल नहीं कर सकी जिनमें से कुछ गोपनीय थे।

समिति ने पाया कि मामले काफी चिंताजनक हैं। न सिर्फ निर्दिष्ट पल्स रेडियो फ्रीक्वेंसी ऊर्जा को एक तंत्र के रूप में इस्तेमाल करने की भूमिका के संदर्भ में बल्कि उन अहम दिक्कतों के कारण भी जो उनमें से कुछ लोगों में पैदा हुई हैं। एक राष्ट्र के रूप में इन विशिष्ट मामलों और भविष्य में सामने आ सकने वाले मामलों से एक ठोस, समन्वित और व्यापक दृष्टिकोण के साथ निपटने की आवश्यकता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.