टोक्यो. जापान में मुर्गियों को जुकाम हो जाने से रूस बुरी तरह डर गया है। उसने जापानी मुर्गियों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस बीच जापान सरकार ने मुर्गियों को जुकाम से बचाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। जापान के शिकोकू द्वीप में बर्डफ्लू की नई लहर के प्रकोप के मद्देनजर 84 लाख से अधिक मुर्गियों को बचाने के लिए सरकार आवश्यक कदम उठायेगी।
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कागावा क्षेत्र में पिछले कुछ सप्ताह के भीतर काफी संख्या में मुर्गियों की मौत हुई है। परीक्षण में इन मुर्गियों के बर्डफ्लू से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। जापानी अधिकारियों का मानना है कि हाल में बर्डफ्लू के छठवें और सातवें लहर का प्रकोप फैला है।
एक न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट में बताया गया कि 3.50 लाख मुर्गियों को एक खेत में रखा जायेगा जबकि 4.95 लाख मुर्गियों को दूसरे खेत में रखा जायेगा।
उल्लेखनीय है कि कागावा के शहर मितोयो के पास एक पक्षी फार्म में पहली बार एच 5 फ्लू के प्रकोप की पुष्टि हुई थी । यहां नवम्बर के पहले सप्ताह में करीब चार हजार मुर्गियों की मौत हो गई थी। गत 13 नवंबर को रूस ने बर्ड फ्लू के प्रकोप को देखते हुए जापान से मुर्गियों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.