नई दिल्ली. भारत ने पाकिस्तान के इस दावे की खिल्ली उडाई है जिसमें कहा जा रहा है कि भारत ने पाकिस्तान में आतंकी हमले कराए हैं। पाकिस्तान के ये आरोप खारिज कर दिए गए हैं कि उसके पास भारत के आतंकवादी हमले में शामिल होने के सबूत हैं।
विदेश मंत्रालय के अनुसार भारत-विरोधी दुष्प्रचार की एक और व्यर्थ कवायद के साथ ही पाकिस्तान के भारत के खिलाफ सबूत के तथाकथित दावों की कोई प्रामाणिकता नहीं है और यह मनगढ़ंत और काल्पनिक हैं। दुनिया पाकिस्तान की चालों से वाकिफ है तथा पाकिस्तान के आतंकवाद को प्रायोजित करने के सबूतों को उसके स्वयं के नेतृत्व ने कबूल किया है।
पाकिस्तान में वैश्विक आतंकवादी ओसामा बिन लादेन पाया गया था। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने उसे संसद में शहीद बताया था। उन्होंने पाकिस्तान में 40 हजार आतंकवादियों के होना स्वीकार किया है। उनके विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री ने पुलवामा आतंकवादी हमले में अपने प्रधानमंत्री के नेतृत्व में पाकिस्तान के शामिल होने और सफलता का दावा किया। इस आतंकवादी हमले में 40 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। पाकिस्तान संघर्ष विराम समझौते का पालन नहीं कर रहा है। वह भारतीय सीमा में आतंकवादियों की घुसपैठ करने के लिए लगातार गोलाबारी कर रहा है।

पाकिस्तान आंतरिक राजनीतिक और आर्थिक विफलताओं से ध्यान हटाने के लिए जानबूझकर ऐसा प्रयास कर रहा है। उल्लेखनीय है कि एक दिन पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार के साथ संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि पाकिस्तान में हुए कुछ आतंकी हमलों के पीछे भारत का हाथ है।

Leave a comment

Your email address will not be published.