नई दिल्ली. अगर किसी को नर्क में जाने का शौक हो तो उसे तत्काल नार्वे की टिकट कटा लेनी चाहिए क्योंकि पृथ्वी पर एकमात्र नर्क सिर्फ नार्वे में है। नार्वे में स्थित ये नर्क भारतीय पुराणों में वर्णित नर्क जैसा नहीं है बल्कि बेहद खूबसूरत है और समुद्र तट से सिर्फ 35 किलोमीटर दूर होने से पर्यटकों की पहली पसंद है।

असल में पर्यटकों की आमद-रफ्त से हर समय गुलजार रहने वाले इस नर्क का अंग्रेजी नाम हेल है जिसका हिंदी में अर्थ नर्क या जहन्नुम होता है। नार्वे के इस पर्यटन स्थल के लोग इस नाम से परेशान हैं लेकिन अपने शहर का नाम बदलवाने में कामयाब नहीं हो पा रहे हैं।

अजीबो-गरीब नामों वाले अनेक शहर और गांव भारत में कदम-कदम पर मिल जाएंगे लेकिन विदेशों में भी ऐसे अजीब नाम वाले अनेक शहर हैं, जिनके वाशिंदे उन नामों को दोहराने में शर्मिंदगी महसूस करते हैं।

ऐसे ही शहरों में एक शहर बोरिंग है। अमेरिका का ये ऊबाऊ नामक ये शहर 9 अगस्त को ब्लैंड, डल एंड बोरिंग डे भी मनाता है। इसी तरह के शहरों में बेल्जियम का सिली कस्बा भी है। हिंदी में वेबकूफ कहलाने वाला ये कस्बा सिले नदी के किनारे बसे होने के कारण सिली हो गया।

ऐसा ही एक शहर तुर्की में है जिसका नाम बैटमैन है। सबसे गंदे नाम वाला एक गांव आस्ट्रिया में है जिसका नाम लेने से हिंदी वाले भी कतराते हैं। इस गांव का नाम फकिंग है और वहां सिर्फ 106 लोग रहते हैं। गांव वाले नाम से इतना परेशान हैं कि उन्होंने उसका नाम बदल कर फगिंग कर दिया है। उत्कृष्ट स्वाद वाली ब्रांडी के लिए मशहूर फ्रांस के एक शहर का नाम कंडोम है। जिसका उल्लेख इंडियन सिर्फ अकेले में करते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.