नई दिल्ली. चीन के अंतरिक्ष यान ने चांद की सतह के नमूने एक अन्य ऑर्बिटर में भेजे हैं। ये नमूचे जल्द ही चीनी धरती तक पहुंच जाएंगे। दुनिया में इस तरह का प्रयास करीब 45 वर्षों में पहली बार किया जा रहा है।

चीनी यान ‘चांग ए’ का लैंडर चांद से नमूने लेकर रवाना हो गया है। मिशन सफल रहता है तो अमेरिका और पूर्ववर्ती सोवियत संघ के बाद चीन चांद के चट्टानी पत्थर धरती पर लाने वाला तीसरा देश बन जाएगा। चाइना नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन के हवाले से बताया गया कि यान स्थानीय समयानुसार रविवार सुबह पांच बजकर 42 मिनट पर चांद का चक्कर लगा रहा था। इसके आधे घंटे बाद नमूने ऑर्बिटर में स्थानांतरित किए गए।

चांद की सतह के नमूने लेकर आने वाले कैप्सूल के चीन के उत्तरी हिस्से में स्थित इनर मंगोलिया क्षेत्र में दिसंबर माह के मध्य तक उतरने की संभावना है। इससे पहले चांद की सतह के नमूने 1976 में पूर्ववर्ती सोवियत संघ के लूना 24 द्वारा धरती पर लाए गए थे। भारत सहित अन्य देश भी इसी तरह का कारनामा करने की फिराक में हैं लेकिन भारत का ऐसा मिशन कामयाबी तक पहुंचने से पहले ही क्रेश हो गया था। उसका आर्बिटेटर चांद की सतह पर उतरते समय दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

Leave a comment

Your email address will not be published.