शोधकर्ताओं ने न्यूरॉन्स में एक नए तंत्र की पहचान की है जो उम्र के साथ याददाश्‍त को कम करता है. सर्वविदित है कि वृद्धावस्था का याददाश्‍त पर प्रभाव पड़ता है. शोधकर्ताओं ने बड़ी उम्र के चूहों पर प्रयोग करके न्यूरॉन्स में एक नए तंत्र की पहचान की है जो याददाश्‍त कम करने का कारण बनता है.

बता दें कि अभी तक ऐसी कोई दवा नहीं है जो उम्र बढ़ने के कारण होने वाली प्रतिक्रियाओं को रोक सके. अध्ययनकर्ताओं के अनुसार मस्तिष्क में एक विशिष्ट लक्ष्य की पहचान करने में ये शोध कामयाब रहा है. उम्र बढ़ने के कारण स्मृति हानि को रोकने के साथ ही अल्जाइमर या मनोभ्रंश पर काबू पा सकता है.

मस्तिष्क में हिप्पोकैम्पस 

अध्ययनकर्ता मिची केली ने कहा कि यदि एक वयस्क कॉकटेल पार्टी में उपस्थित लोगों के नाम या चेहरे को पहचान लेंगे, लेकिन उन्हें यह याद रखने में दिक्‍कत आ सकती है कि उनके नाम क्‍या हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार शोध के दौरान पाया गया कि चूहे भोजन की गंध और सामाजिक गंध दोनों को अलगअलग पहचान सकते हैं, लेकिन वे दोनों के बीच संबंध को याद नहीं रख पाते हैं. उन्होंने यह भी पाया कि मस्तिष्क क्षेत्र में हिप्पोकैम्पस न्यूरॉन्स में छोटे फिलामेंट्स के रूप में जमा होता है. शोधकर्ताओं का दावा है कि ये शोध याददाश्‍त को बरकरार रखने की दवाओं की खोज के लिए बहुत महत्‍वपूर्ण है.

Leave a comment

Your email address will not be published.